Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2018 · 1 min read

काठ की हांडी में कब तक झोत पकेगा कठवा केस में ? – आर के रस्तोगी

काठ की हांडी में कब तक झूठ पकेगा कठुवा केस में उसे जानना है
असली कातिल कही ओर छिपा है,किसी ओर भेष में उसे पकड़ना है

ऐ टी एम में केवल कैश नहीं निकलता,कभी निकलता सच भी है
जो सच्चा सबूत निकला है अब,जो बचा सकता विशाल को भी है

जे & के पुलिस सफेद झूठ बोल रही है,कैमरा कभी झूठ बोलेगे क्या ?
कैमरा एक बेजान चीज है,पुलिस की तरह कभी रिश्वत लेगा क्या ?

बैंक स्टेटमेंट उसका तुम देखो,लिखतम के आगे बकतम है क्या ?
15 जनवरी को विशाल मीरापुर में था,सुबह कठुवा पहुचेगा क्या ?

पुलिस चार्ज शीट झूठ का पुलंदा अब इस पर विश्वास करना क्या ?
झूठ के पैर होते नहीं है,कठुवा केस ओर आगे चल पायेगा क्या ?

इस कविता को एक बैंक अधिकारी लिख रहा,उसको समझाओगे क्या ?
जान लड़ा दूंगा इस केस में,मुझे बच्ची के कातिलो से अब डरना क्या ?

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 445 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
11-🌸-उम्मीद 🌸
11-🌸-उम्मीद 🌸
Mahima shukla
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
Acrostic Poem
Acrostic Poem
jayanth kaweeshwar
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
मोहन वापस आओ
मोहन वापस आओ
Dr Archana Gupta
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
कवि रमेशराज
बारिशों में कुछ पतंगें भी उड़ा लिया करो दोस्तों,
बारिशों में कुछ पतंगें भी उड़ा लिया करो दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
Radhakishan R. Mundhra
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*सोता रहता आदमी, आ जाती है मौत (कुंडलिया)*
*सोता रहता आदमी, आ जाती है मौत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
2470.पूर्णिका
2470.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दूर चकोरी तक रही अकास...
दूर चकोरी तक रही अकास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"घोषणा"
Dr. Kishan tandon kranti
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
Sunil Maheshwari
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*
*"सिद्धिदात्री माँ"*
Shashi kala vyas
जो बालक मातृभाषा को  सही से सीख  लेते हैं ! वही अपने समाजों
जो बालक मातृभाषा को सही से सीख लेते हैं ! वही अपने समाजों
DrLakshman Jha Parimal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...