Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*

कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)
————————————————–
1)
कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी ।
कथा सत्य की सदा बखानी ।।
नील एक पर्वत कहलाया ।
उस पर काग एक था पाया।।
2)
कौवे का तन पक्षी पाए ।
भक्त शिरोमणि खग कहलाए।।
सदा वृक्ष के नीचे रहते ।
कागभुशुंडी गाथा कहते।।
3)
कल्प बीतता किंतु न मरते।
सदा कथा हरि ही की करते।।
हंस कथा सुनने थे आते।
ज्ञान भक्त कौवे से पाते।।
4)
नर से बढ़कर काया पाई ।
काग भक्त की मधु भक्ताई।।
विश्वरूप दर्शन जब पाया।
भक्त काग ने मोह भुलाया ।।
5)
प्रभु मुख में ब्रह्मांड भरे थे।
देख काग निखरे- निखरे थे।।
देखा विश्वरूप तो जाना।
प्रभु को सगुण काग ने माना।।
6)
सीख गरुड़ को वही सिखाई।
कागभुशुंडी ने जो पाई।।
गरुड़ मोह-मद के मारे थे।
प्रभु के यद्यपि अति प्यारे थे।।
7)
प्रभु के पाश काटकर आए।
मोह-पाश के बंधन लाए।।
सोच रहे यह क्या अवतारी ?।।
राम लगे केवल तनधारी।।
8)
भक्ति काग जी से जब पाई ।
सुमति गरुड़ जी को तब आई।।
कहा तीन दोषों को छोड़ो।
सुत धन मान चाह मत जोड़ो।।
9)
कागभुशुंडी जी का कहना।
सदा भक्ति ही मे रत रहना।।
सिद्धि सदा छोटी कहलाती।
भक्ति भक्त को केवल भाती।।
➖➖➖➖➖➖➖
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
अंकित है जो सत्य शिला पर
अंकित है जो सत्य शिला पर
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
संविधान /
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ लघुकथा / रेल की खिड़की
■ लघुकथा / रेल की खिड़की
*Author प्रणय प्रभात*
मिट्टी की कीमत
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
✍️ मैं काश हो गया..✍️
✍️ मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
सिर्फ एक रंगे मुहब्बत के सिवा
सिर्फ एक रंगे मुहब्बत के सिवा
shabina. Naaz
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce Lee"
Pravesh Shinde
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
रंग
रंग
Dr. Rajiv
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
तिरंगा
तिरंगा
Pakhi Jain
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बिखरना
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
दीपावली
दीपावली
Dr Meenu Poonia
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वर्णमाला
वर्णमाला
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
* सखी *
* सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बेरोजगार मजनूं
बेरोजगार मजनूं
Shekhar Chandra Mitra
*बेवजह कुछ लोग जलते हैं 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*बेवजह कुछ लोग जलते हैं 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घर
घर
Sushil chauhan
-- कटते पेड़ --
-- कटते पेड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...