Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*

कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)
————————————————–
1)
कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी ।
कथा सत्य की सदा बखानी ।।
नील एक पर्वत कहलाया ।
उस पर काग एक था पाया।।
2)
कौवे का तन पक्षी पाए ।
भक्त शिरोमणि खग कहलाए।।
सदा वृक्ष के नीचे रहते ।
कागभुशुंडी गाथा कहते।।
3)
कल्प बीतता किंतु न मरते।
सदा कथा हरि ही की करते।।
हंस कथा सुनने थे आते।
ज्ञान भक्त कौवे से पाते।।
4)
नर से बढ़कर काया पाई ।
काग भक्त की मधु भक्ताई।।
विश्वरूप दर्शन जब पाया।
भक्त काग ने मोह भुलाया ।।
5)
प्रभु मुख में ब्रह्मांड भरे थे।
देख काग निखरे- निखरे थे।।
देखा विश्वरूप तो जाना।
प्रभु को सगुण काग ने माना।।
6)
सीख गरुड़ को वही सिखाई।
कागभुशुंडी ने जो पाई।।
गरुड़ मोह-मद के मारे थे।
प्रभु के यद्यपि अति प्यारे थे।।
7)
प्रभु के पाश काटकर आए।
मोह-पाश के बंधन लाए।।
सोच रहे यह क्या अवतारी ?।।
राम लगे केवल तनधारी।।
8)
भक्ति काग जी से जब पाई ।
सुमति गरुड़ जी को तब आई।।
कहा तीन दोषों को छोड़ो।
सुत धन मान चाह मत जोड़ो।।
9)
कागभुशुंडी जी का कहना।
सदा भक्ति ही मे रत रहना।।
सिद्धि सदा छोटी कहलाती।
भक्ति भक्त को केवल भाती।।
➖➖➖➖➖➖➖
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
सब्र और सहनशीलता कोई कमजोरी नहीं होती,ये तो अंदरूनी ताकत है,
सब्र और सहनशीलता कोई कमजोरी नहीं होती,ये तो अंदरूनी ताकत है,
पूर्वार्थ
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तुम सम्भलकर चलो
तुम सम्भलकर चलो
gurudeenverma198
मेनका की मी टू
मेनका की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
🙅मेरे विचार से🙅
🙅मेरे विचार से🙅
*प्रणय प्रभात*
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
Rj Anand Prajapati
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
सन्यासी
सन्यासी
Neeraj Agarwal
बेरहमी
बेरहमी
Dr. Kishan tandon kranti
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
हरषे धरती बरसे मेघा...
हरषे धरती बरसे मेघा...
Harminder Kaur
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
शराब का सहारा कर लेंगे
शराब का सहारा कर लेंगे
शेखर सिंह
हर बच्चा एक गीता है 🙏
हर बच्चा एक गीता है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
अपने आँसू
अपने आँसू
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Loading...