Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

कागज पे हालाते-दिल लिखते हुये इक दिन मौत आ जानी है

कागज पे हालाते-दिल लिखते हुये इक दिन मौत आ जानी है
मुझे मरते , तड़पते , बिलखते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

लापता है कई रास्ते मुझ में ,कल रात घर खोने के बाद से
वो गली वो शहर ढूँढ़ते-ढूँढ़ते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

ये कोई मौसम ही होगा बारिशो का आँखों की बस्तियों का
नमी दिल की दीवारों से सूखते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

ये क्या हो गया देख दिल को मेरे हर घडी बिमार रहता है
मरिजें-दिल पे कोई दवा लगते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

बो दिया आँसुओ को दिल के सहरा में बस बहार आने दो
जख्मों पे दर्द के फूल खिलते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

जो दर्द है अभी मेरी आहों में है मेरे जख्मो की खलिश में है
लबों की ये खामोशी टूटते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

आ फसा जी के इस जंजाल में जहाँ साँसे बोझ लगने लगी
भीतर यूँ घुट-घुट के मरते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

सो जायेगी तमाम ख्वाइशें मेरे साथ हमेशा हमेशा के लिए
साँसों की थकान दूर करते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

मरने के बाद दर्दे-दिल-पुरव के कई नये नये राज खुलेंगे
तेरा नाम हथेली पर लिखते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

पुरव गोयल

388 Views
You may also like:
ओ परदेसी तेरे गांव ने बुलाया,
अनूप अंबर
जितना आवश्यक है बस उतना ही
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
क्यों बात करते हो.......
J_Kay Chhonkar
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
वैदेही से राम मिले
Dr. Sunita Singh
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
ఇదే నా తెలంగాణ!
विजय कुमार 'विजय'
हम हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
DrLakshman Jha Parimal
इंसान
Annu Gurjar
नीली साइकिल वाली लड़की
rkchaudhary2012
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
औरत
Rekha Drolia
मंज़िल
Ray's Gupta
*एक शेर*
Ravi Prakash
सदियों की गुलामी
Shekhar Chandra Mitra
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
शहीदों के नाम
Sahil
!!!! मेरे शिक्षक !!!
जगदीश लववंशी
रावण कौन!
Deepak Kohli
एक बात है
Varun Singh Gautam
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
माँ आई
Kavita Chouhan
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
Loading...