Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

कागज पे हालाते-दिल लिखते हुये इक दिन मौत आ जानी है

कागज पे हालाते-दिल लिखते हुये इक दिन मौत आ जानी है
मुझे मरते , तड़पते , बिलखते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

लापता है कई रास्ते मुझ में ,कल रात घर खोने के बाद से
वो गली वो शहर ढूँढ़ते-ढूँढ़ते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

ये कोई मौसम ही होगा बारिशो का आँखों की बस्तियों का
नमी दिल की दीवारों से सूखते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

ये क्या हो गया देख दिल को मेरे हर घडी बिमार रहता है
मरिजें-दिल पे कोई दवा लगते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

बो दिया आँसुओ को दिल के सहरा में बस बहार आने दो
जख्मों पे दर्द के फूल खिलते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

जो दर्द है अभी मेरी आहों में है मेरे जख्मो की खलिश में है
लबों की ये खामोशी टूटते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

आ फसा जी के इस जंजाल में जहाँ साँसे बोझ लगने लगी
भीतर यूँ घुट-घुट के मरते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

सो जायेगी तमाम ख्वाइशें मेरे साथ हमेशा हमेशा के लिए
साँसों की थकान दूर करते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

मरने के बाद दर्दे-दिल-पुरव के कई नये नये राज खुलेंगे
तेरा नाम हथेली पर लिखते हुये इक दिन मौत आ जानी है !!

पुरव गोयल

496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*
*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
3100.*पूर्णिका*
3100.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जो होता वही देता"
Dr. Kishan tandon kranti
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उस रात .....
उस रात .....
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
Mr.Aksharjeet
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
बहू-बेटी
बहू-बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
Er. Sanjay Shrivastava
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
जय लगन कुमार हैप्पी
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...