Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

” क़ैद में ज़िन्दगी “

तीस की उमर में पचास सी लगती है
क़ैद में ज़िन्दगी, उदास सी लगती है

ये ऊँची दीवारें, और बेवश हैं आंखें
ये फूलों की डाली बेज़ार सी लगती है

क़ैद मन की उलझन और अपनों से दूरी
वीणा की टूटी हुई तार सी लगती है

ये चाँदनी रातें और अपनों की बातें
बेमौसम के बारिश की धार सी लगती है

क़ैदियों के तराने, ये फिल्में, ये गानें
गीत, संगीत सब खटराग़ सी लगती है

उलझा-उलझा तन है,बोझिल सा मन है
“चुन्नू”मीठी बातें भी,कटार सी लगती है

आहिस्ता-आहिस्ता बीमार सी लगती है
बीवी और बच्चों पर भार सी लगती है

— क़ैद में ज़िन्दगी उदास सी लगती है —

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहे- उदास
दोहे- उदास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुमनाम ज़िन्दगी
गुमनाम ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
जिंदगी की फितरत
जिंदगी की फितरत
Amit Pathak
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
फ़ितरत-ए-धूर्त
फ़ितरत-ए-धूर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Dr. Kishan tandon kranti
*तेरे इंतज़ार में*
*तेरे इंतज़ार में*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी एक बार मिलती है
ज़िंदगी एक बार मिलती है
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-379💐
💐प्रेम कौतुक-379💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
मेरे अल्फाज याद रखना
मेरे अल्फाज याद रखना
VINOD CHAUHAN
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
कृष्णकांत गुर्जर
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
हरवंश हृदय
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
Loading...