Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2023 · 1 min read

क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है

क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
पर अतीत उसके भीतर कहीं न कहीं रह जाता है।।

Ruby kumari

3 Likes · 1 Comment · 404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
मेरी पसंद
मेरी पसंद
Shekhar Chandra Mitra
तन्हाई
तन्हाई
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जाति
जाति
Adha Deshwal
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ छठ महापर्व...।।
■ छठ महापर्व...।।
*Author प्रणय प्रभात*
2864.*पूर्णिका*
2864.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
कविता
कविता
Neelam Sharma
आधुनिक हिन्दुस्तान
आधुनिक हिन्दुस्तान
SURYA PRAKASH SHARMA
अपनी मंजिल की तलाश में ,
अपनी मंजिल की तलाश में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुंदरता की देवी 🙏
सुंदरता की देवी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Sushil Pandey
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
Loading...