Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,

कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
ख्वाहिशों का परिंदा अभी और उड़ना चाहता है।
साँसें है की दामन छुडाये जा रही हैं,
मन गलियों में अभी और भटकना चाहता है।
-सरितासृजना

1 Like · 545 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*श्वास-गति निष्काम होती है (मुक्तक)*
*श्वास-गति निष्काम होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
💐प्रेम कौतुक-302💐
💐प्रेम कौतुक-302💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ुमनाम जिंदगी
ग़ुमनाम जिंदगी
Awadhesh Kumar Singh
बदलाव
बदलाव
Dr fauzia Naseem shad
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
बाधा को 'चल हट' कहता है,
बाधा को 'चल हट' कहता है,
Satish Srijan
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
वह दौर भी चिट्ठियों का अजब था
वह दौर भी चिट्ठियों का अजब था
श्याम सिंह बिष्ट
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
Taj Mohammad
लौट आयी स्वीटी
लौट आयी स्वीटी
Kanchan Khanna
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3011.*पूर्णिका*
3011.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
Buddha Prakash
Loading...