Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

कह दिया आपने साथ रहना हमें।

कह दिया आपने साथ रहना हमें।
साथ मिलकर यहां कष्ट सहना हमें।
मौसमों की तरह फिर बदल क्यों गये।
बस दिखाकर मधुर एक सपना हमें।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
– सुरेन्द्रपाल वैद्य, २७/१०/२०२३

1 Like · 1 Comment · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
छल ......
छल ......
sushil sarna
*घने मेघों से दिन को रात, करने आ गया सावन (मुक्तक)*
*घने मेघों से दिन को रात, करने आ गया सावन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Tera wajud mujhme jinda hai,
Tera wajud mujhme jinda hai,
Sakshi Tripathi
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
3248.*पूर्णिका*
3248.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
◆बात बनारसियों◆
◆बात बनारसियों◆
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा स्वर्ग
मेरा स्वर्ग
Dr.Priya Soni Khare
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
हम भी बहुत अजीब हैं, अजीब थे, अजीब रहेंगे,
हम भी बहुत अजीब हैं, अजीब थे, अजीब रहेंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
Vishal babu (vishu)
मैं
मैं
Dr.Pratibha Prakash
पलायन (जर्जर मकानों की व्यथा)
पलायन (जर्जर मकानों की व्यथा)
नवीन जोशी 'नवल'
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
यादों में ज़िंदगी को
यादों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
Anand Kumar
चार यार
चार यार
Bodhisatva kastooriya
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
ruby kumari
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
Loading...