Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2021 · 1 min read

बीतल बरस।

कहै छी
बरस बीत गेलै।
परंच हम बीत गेली हैय।

वोहिना जेना
फलां त मर गेलै।
समसान घाट से आबै हैय।

सोचू न
बरस फेर आ गेलै।
परंच बीतल समयनै आबैय हैय।

सोचूं न
फलां त मर गेलैय।
अब हमर बारी आबैय हैय।

सोचूं न
घमंड में हम जियै।
उम्र बीतल जा रहल हैय।

सोचूं न
सभ के पड़त जायै।
राजा रंक बाभन सोलकन कैंय।

सोचूं न
सभ के पड़त जायै।
रामा ज्ञानी अज्ञानी प्रानी कैंय।

स्वरचित © सर्वाधिकार रचनाकाराधीन

रचनाकार-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सीतामढ़ी।

Language: Maithili
351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
कृष्ण की राधा बावरी
कृष्ण की राधा बावरी
Mangilal 713
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
"खाली हाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
राजनीती
राजनीती
Bodhisatva kastooriya
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
Indu Singh
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
*पदयात्रा का मतलब (हास्य व्यंग्य)*
*पदयात्रा का मतलब (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
काश.! मैं वृक्ष होता
काश.! मैं वृक्ष होता
Dr. Mulla Adam Ali
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
2731.*पूर्णिका*
2731.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
*रेल हादसा*
*रेल हादसा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
Loading...