Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 2 min read

कहियो तऽ भेटब(भगवती गीत)

कहियो तऽ भेटब
(मैथिली भगवती गीत)
~~°~~°~~°
कखन अहां मिलब ,
कहियो तऽ भेटब।
शरण में जेऽ आयल छी तऽ,
कृपा तऽ करब।
निशि दिन हम ध्यान धरै छी ,
कहियो तऽ भेटब ।

जिनगी दुश्वार बनल अइ ,
लोग सभ अनचिन्हार जकाँ ।
निहारैत छी,छवि बस अहींकेऽ,
मैया, दया तऽ करब।

शरण में जेऽ आयल छी तऽ, कृपा तऽ करब ,
निशि दिन हम ध्यान धरै छी,कहियो तऽ भेटब।

राति में जेऽ निन्द नहिं आबऽ,
भविष्यक चिंता सताबेऽ।
थामि लिअ पतवार हाथ में ,
कोना मझधार मे छोड़ब ।

शरण में जेऽ आयल छी तऽ, कृपा तऽ करब ,
निशि दिन हम ध्यान धरै छी,कहियो तऽ भेटब।

कहैया जेऽ लोग हमरा सेऽ ,
कोना के ई जिंदगी कटतौ।
खेत-खलिहान आओर बाग-बगीचा,
किछु नै तऽ,संगे जैइतउ ।
पकड़ू अहां,हाथ हमर जेऽ ,
नैया,हमहुँ पार करब।

शरण में जेऽ आयल छी तऽ,कृपा तऽ करब ,
निशि दिन हम ध्यान धरै छी,कहियो तऽ भेटब।

साँस अछि जेऽ गिनल गुथल ,
ओहि में सभ काज निपटाएब।
छोड़ि देब हम,आगू केऽ चिंता ,
कनिए, आंखि जेऽ खोलब।

शरण में जेऽ आयल छी तऽ,कृपा तऽ करब ,
निशि दिन हम ध्यान धरै छी,कहियो तऽ भेटब।

पहुंचल छी दरबार अहां केऽ
अनुपम श्रृंगार अहां केऽ
महिमा अपरंपार अहां केऽ
मैया, दया तऽ करब…

भैरवी, दया तऽ करब…
काली, कृपा तऽ करब…
दुर्गे, कष्ट तऽ हरब…

शरण में जेऽ आयल छी तऽ,कृपा तऽ करब ,
निशि दिन हम ध्यान धरै छी,कहियो तऽ भेटब।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ७ /१२/२०२२
मार्गशीर्ष, शुक्ल पक्ष,पुर्णिमा,बुधवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

4 Likes · 736 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
#सवाल-
#सवाल-
*Author प्रणय प्रभात*
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
चाय
चाय
Rajeev Dutta
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
"बिन तेरे"
Dr. Kishan tandon kranti
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
*समृद्ध भारत बनायें*
*समृद्ध भारत बनायें*
Poonam Matia
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
जवानी के दिन
जवानी के दिन
Sandeep Pande
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
दरकती है उम्मीदें
दरकती है उम्मीदें
Surinder blackpen
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...