Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !

कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों
वो मुरली कि धुन अब , सुनाते नहीं हों

राधा बनूँ मैं या मीरा बनूँ मैं
या बनके तोहरी जोगन, यूं ही फिरता रहूँ मैं

तोहरे बिन मोरा मनवा, लागे नहीं हैं
देख तोहे तस्वीरों में, रूदन करता रहूँ मैं

आकर कभी तो, नयन – नीर पोंछो
लगाके ह्रदय से व्यथा, मोरी नोंचो

पत्थर कि मूरत या पत्थर ही हों तुम
सुनते नहीं हों, जो मोरी अर्जियां

कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों
वो मुरली कि धुन, सुनाते नहीं हों !

The_dk_poetry

1 Like · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
💐अज्ञात के प्रति-122💐
💐अज्ञात के प्रति-122💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
*जीवन की शाम (चार दोहे)*
*जीवन की शाम (चार दोहे)*
Ravi Prakash
आज़ाद
आज़ाद
Satish Srijan
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
सीमजी प्रोडक्शंस की फिल्म ‘राजा सलहेस’ मैथिली सिनेमा की दूसरी सबसे सफल फिल्मों में से एक मानी जा रही है.
सीमजी प्रोडक्शंस की फिल्म ‘राजा सलहेस’ मैथिली सिनेमा की दूसरी सबसे सफल फिल्मों में से एक मानी जा रही है.
श्रीहर्ष आचार्य
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*Author प्रणय प्रभात*
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
मेरा प्रदेश
मेरा प्रदेश
Er. Sanjay Shrivastava
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
Dushyant Kumar Patel
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
हम भी नहीं रहते
हम भी नहीं रहते
Dr fauzia Naseem shad
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
भौतिक युग की सम्पदा,
भौतिक युग की सम्पदा,
sushil sarna
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
Loading...