Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

कहाॅ॑ है नूर

कहाॅ॑ है नूर कहाॅ॑ अब नूर-ए-जिंदगी है
हद हो चुकी है पार हया न शर्मिंदगी है
रोज होते हैं उपवास और रोज़े यहां पर
मगर न तो खुदा न खुदा की बंदगी है—कहाॅ॑ है नूर
लोग जाते हैं मंदिर मस्जिद चर्च गुरुद्वारे
इंसानियत छुपाए भटकते मजहबी सारे
भड़कते हैं दंगे फसाद धर्म के नाम पर
होती जगह-जगह ये कैसी दरिंदगी है—कहाॅ॑ है नूर
औलाद के लिए माॅ॑ बाप ये कष्ट उठाते हैं
बड़े होकर माॅ॑-बाप को ये दिन दिखाते हैं
शादी रचा लेते हैं वो घरों से भागकर
उन्हें क्या माॅ॑-बाप झेलते शर्मिंदगी है—कहाॅ॑ है नूर
देखो मयखानों में भीड़ लगती है बहुत
हर मुहल्ले में महफिलें सजती है बहुत
नशे का आदी हो रहा हर नौजवाॅ॑ पर
इसी में खुश उनकी यही तो जिंदगी है—कहाॅ॑ है नूर
‘V9द’ आज हो रहा कैसा व्यवहार है
न खातिरदारी है अब न शिष्टाचार है
मेहमानवाजी में सभी व्यस्त हैं मगर
रिश्ते-नातों में कहाॅ॑ अब संजीदगी है —कहाॅ॑ है नूर

2 Likes · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
इंसानियत की
इंसानियत की
Dr fauzia Naseem shad
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
*मासूम पर दया*
*मासूम पर दया*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
दया करो भगवान
दया करो भगवान
Buddha Prakash
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
-- आधे की हकदार पत्नी --
-- आधे की हकदार पत्नी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सपनों को अपनी सांसों में रखो
सपनों को अपनी सांसों में रखो
Ms.Ankit Halke jha
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
वेला
वेला
Sangeeta Beniwal
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
विदाई
विदाई
Aman Sinha
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
"पूनम का चांद"
Ekta chitrangini
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
खुद की एक पहचान बनाओ
खुद की एक पहचान बनाओ
Vandna Thakur
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
कवि दीपक बवेजा
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
Anil chobisa
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
Loading...