Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

कहानी ….

कहानी ……….

कहानी कहाँ नहीं है
जिन्दगी की हर परत में कसमसाती
कोई न कोई कहानी है

कल्पना की बैसाखियों पर
यथार्थ की हवेलियों में
शब्दों की खोलियों में
दिल के गलियारों में
टहलती हुई
कोई न कोई कहानी है

पत्थरों के बिछौनों पर
लाल बत्ती के चौराहों पर
बसों पर लटकी हुई
रोटी के लिए भटकती हुई
आँखों के दरीचों में टहलती
कोई न कोई कहानी है

सच! इन्सान की जिंदगी में
आदि से अन्त तक
हर बीते कल में
हर छूटे मोड़ पर खड़ी
कोई न कोई कहानी है

सुशील सरना
मौलिक एवं अप्रकाशित

67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
2448.पूर्णिका
2448.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*पेड़ (पाँच दोहे)*
*पेड़ (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी तेरा
ज़िंदगी तेरा
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में परीवार
रिश्तों में परीवार
Anil chobisa
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
33 लयात्मक हाइकु
33 लयात्मक हाइकु
कवि रमेशराज
"नवाखानी"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल और तुम
फूल और तुम
Sidhant Sharma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
DrLakshman Jha Parimal
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...