Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

कहां पर

कहां पर ख़ुद को ले जाएं,
कहां पर तुम नहीं होते ।
हमारी आंख के आंसू
कभी भी कम नहीं होते ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 22 Views
You may also like:
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादें
kausikigupta315
कर्म का मर्म
Pooja Singh
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ
आकाश महेशपुरी
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
अनमोल राजू
Anamika Singh
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
मेरे साथी!
Anamika Singh
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
विजय कुमार 'विजय'
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...