Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

कहां जाके लुकाबों

विषय
कहां जाके लुकाबों

****************

जंगल झाड़ी चातर होवत हे,
चार तेंदू कहां ले पाबों।
बघवा भलुवा शहर धरत हे
कहां जाके हमन लुकाबों।।

रूख राई खोजे नई मिलय
आक्सीजन कहां ले पाबों।
जंगल सिपाही चोरहा लबरा
अब कोन ला जाके बताबों।।

जंगल झाड़ी चातर होवत हे
चार तेंदू कहां से पाबों।
बेंदरा भलुवा गांव मां घुसते हे
कहां जाके अब लुकाबों।।

बेटा मारय बाप घलो ल ,
बहिनी के इज्जत लुटत हे।
घोर अत्याचार कलजुग मां,
विजय के पसीना छुटत हे।।

बोये हावन बमरी ला तब
आम कहां ले पाबों।
जंगल झाड़ी चातर होवत हे
कहां जाके लुकाबों।।

जंगल के रहइया हाथी बरहा
अब गांव कोती बर आवत हे।
कहां रही वहु बपरा मन सब
जब जंगल झाड़ी कटावत हे।

जइसन करनी करत हन संगी
वोइसने फल ला पाबों।
जंगली जानवर गांव आवत हे
अब कहां जाके लुकाबों।।

रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे छत्तीसगढ़ रायपुर आरंग अमोदी

Language: Hindi
1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
बुंदेली दोहा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
3107.*पूर्णिका*
3107.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
लकवा
लकवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
मां बेटी
मां बेटी
Neeraj Agarwal
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
"बैठे हैं महफ़िल में इसी आस में वो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
Loading...