Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

कहने को आज है एक मई,

कहने को आज है एक मई,
श्रामिक दिवस का शोर भई।
मंहगाई से बढ़े रोज खई।
सब खुशियां घर से रूठ गई।
यदि श्रमिक दिवस मानना है,
सन्साधन भी दिलवाना है।
परेशानी से भरपूर हैं ये।
निज देश के मजदूर हैं ये।

श्रमिक दिवस विशेष
01.05.23

Language: Hindi
248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुमकिन हो जाएगा
मुमकिन हो जाएगा
Amrita Shukla
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2270.
2270.
Dr.Khedu Bharti
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
घर के राजदुलारे युवा।
घर के राजदुलारे युवा।
Kuldeep mishra (KD)
सोच के दायरे
सोच के दायरे
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
*गाई गाथा राम की, तुलसी कविकुल-भूप (कुंडलिया)*
*गाई गाथा राम की, तुलसी कविकुल-भूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बहरे अगर हेडफोन, ईयरफोन या हियरिंग मशीन का उपयोग करें तो और
*Author प्रणय प्रभात*
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
Nature ‘there’, Nurture ‘here'( HOMEMAKER)
Nature ‘there’, Nurture ‘here'( HOMEMAKER)
Poonam Matia
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
Kanchan Khanna
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
विजय कुमार अग्रवाल
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पल
पल
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...