Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

कहता रहता हूँ खुद से

जबकि वह नजर नहीं आता,
जिसको मैं चाहता हूँ करना,
जैसे कि सभी हो मेरे दुश्मन,
और नहीं हो किसी से प्यार,
इस तरहां मैं,
कहता रहता हूँ खुद से।

करता रहता हूँ याद उनको,
जिनके साथ कभी रही है,
मेरी मुलाकातें हसीन,
आज क्यों उदास है वो,
देखकर सूरत मेरी,
और निराश हो जाता हूँ ,
इस तरहां मैं,
कहता रहता हूँ खुद से।

होता हूँ कभी नाराज इतना,
कि कर दूं खून उनका,
जिन्होंने किया है मुझको,
इस प्रकार बर्बाद- बदनाम,
मुझसे करके विश्वासघात,
किया है जिन्होंने खुद को,
आबाद मेरा करके खून,
मगर जीना है मुझको,
बनकर दोस्त सभी का,
अपने वतन के खातिर,
इस तरहां मैं,
कहता रहता हूँ खुद से।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
👩‍🌾कृषि दिवस👨‍🌾
👩‍🌾कृषि दिवस👨‍🌾
Dr. Vaishali Verma
"दुविधा"
Dr. Kishan tandon kranti
मौन
मौन
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*स्वस्थ देह दो हमको प्रभु जी, बाकी सब बेकार (गीत)*
*स्वस्थ देह दो हमको प्रभु जी, बाकी सब बेकार (गीत)*
Ravi Prakash
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
3151.*पूर्णिका*
3151.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
Neelofar Khan
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
*इस कदर छाये जहन मे नींद आती ही नहीं*
*इस कदर छाये जहन मे नींद आती ही नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
The_dk_poetry
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
Loading...