Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

कसम हिंदुस्तान की

जब तलक आतंक की फसल वो बोते जाएंगे
कसम हिंदुस्तान की नस्ले अपनी खोते जायेंगे
**********************************
कपिल कुमार
22/07/2016

Language: Hindi
Tag: शेर
389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
DrLakshman Jha Parimal
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
मुबारक हो जन्मदिन अटल बिहारी
मुबारक हो जन्मदिन अटल बिहारी
gurudeenverma198
आशिकी
आशिकी
साहिल
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Sakshi Tripathi
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
*खिला हुआ हर एक पुष्प ज्यों मुरझा जाना तय है (हिंदी गजल गीतिका)*
*खिला हुआ हर एक पुष्प ज्यों मुरझा जाना तय है (हिंदी गजल गीतिका)*
Ravi Prakash
मेरे देश के लोग
मेरे देश के लोग
Shekhar Chandra Mitra
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-319💐
💐प्रेम कौतुक-319💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3011.*पूर्णिका*
3011.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आईना ही बता पाए
आईना ही बता पाए
goutam shaw
अजब-गजब इन्सान...
अजब-गजब इन्सान...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"कला आत्मा की भाषा है।"
*Author प्रणय प्रभात*
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
Loading...