Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

कवि अंगारे लिख डालो।

सरहद पर जो खडे़ हुये हैं शेर हमारे लिख डालो।
उठो सपूतों भारत माता के जयकारे लिख डालो।
भारत माँ की महिमा गाकर जोश जगा दो जन जन में।
इन कलमों की बंदूकों से कवि अंगारे लिख डालो।

प्रदीप कुमार

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 2 Comments · 341 Views
You may also like:
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
🚩आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🙏स्कंदमाता🙏
पंकज कुमार कर्ण
Good things fall apart so that the best can come...
Manisha Manjari
गीत
Shiva Awasthi
अदब से।
Taj Mohammad
आदमी को आदमी से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिहाड़ी मजदूर
Shekhar Chandra Mitra
दुख नहीं दो
shabina. Naaz
■ काव्यात्मक व्यंग्य / एक था शेर.....!!
*Author प्रणय प्रभात*
सर्दी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चिट्ठी है बेकार (छह दोहे)*
Ravi Prakash
कितना तन्हा खुद को
Dr fauzia Naseem shad
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक फूल की हत्या
Minal Aggarwal
बहुत आँखें तुम्हारी बोलती हैं
Dr Archana Gupta
“सुन रहे हैं ना मोदी जी! इमरान अफगानियों को भी...
DrLakshman Jha Parimal
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
'चिराग'
Godambari Negi
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
घर की रानी
Kanchan Khanna
~पिता~कविता~
Vijay kumar Pandey
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
किवाड़ खा गई
AJAY AMITABH SUMAN
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
राष्ट्रगौरव हिन्दी
जगदीश शर्मा सहज
Loading...