Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

कवि अंगारे लिख डालो।

सरहद पर जो खडे़ हुये हैं शेर हमारे लिख डालो।
उठो सपूतों भारत माता के जयकारे लिख डालो।
भारत माँ की महिमा गाकर जोश जगा दो जन जन में।
इन कलमों की बंदूकों से कवि अंगारे लिख डालो।

प्रदीप कुमार

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🔘सुविचार🔘
🔘सुविचार🔘
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
2693.*पूर्णिका*
2693.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
"डिब्बा बन्द"
Dr. Kishan tandon kranti
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
Sahil Ahmad
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
Loading...