Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

पत्थरों को तोड़ती

वह मजदूरन

पत्थरों को तोड़ती
नज़रें कहीं न मोड़ती
लक्ष्य को भेदती
श्वेद बहाती।
अथक परिश्रम
मन में न गम
गीत गुनगुनाती
धूप चिलचिलाती
ईंटें सिर पर उठाती
घोलती गारा
मन कभी न हारा
पराश्रमिक पाती
सहर्ष घर जाती
पकाती रोटियां
नमक प्याज संग खाती।
चैन की नींद सो जाती।

Language: Hindi
Tag: कविता
315 Views
You may also like:
माता प्राकट्य
Dr. Sunita Singh
पिता बच्चों का सम्पूर्ण इतिहाश है
AADYA PRODUCTION
कहां पता था
dks.lhp
"शिक्षक तो बोलेगा"
पंकज कुमार कर्ण
वो_हमे_हम उन्हें_ याद _आते _रहेंगे
कृष्णकांत गुर्जर
पथिक मैं तेरे पीछे आता...
मनोज कर्ण
यूं मरनें मारनें वाले।
Taj Mohammad
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अनमोल है स्वतंत्रता
Kavita Chouhan
✴️⛅बादल में भी देखा तुम्हें आज⛅✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बर्फी रसगुल्ला - एक लव स्टोरी(हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
Writing Challenge- भय (Fear)
Sahityapedia
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
ऐ मेरे व्यग्र मन....
Aditya Prakash
उजड़ी हुई बगिया
Shekhar Chandra Mitra
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बढ़ते जाना है
surenderpal vaidya
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मुहब्बतनामा
shabina. Naaz
■ मुद्दा / पूछे जनता जनार्दन...!!
*Author प्रणय प्रभात*
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
खुदा से एक सिफारिश लगवाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
अपनी सोच को
Dr fauzia Naseem shad
कहानी
Pakhi Jain
हो नये इस वर्ष
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️माटी का है मनुष्य✍️
'अशांत' शेखर
Loading...