Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

पत्थरों को तोड़ती

वह मजदूरन

पत्थरों को तोड़ती
नज़रें कहीं न मोड़ती
लक्ष्य को भेदती
श्वेद बहाती।
अथक परिश्रम
मन में न गम
गीत गुनगुनाती
धूप चिलचिलाती
ईंटें सिर पर उठाती
घोलती गारा
मन कभी न हारा
पराश्रमिक पाती
सहर्ष घर जाती
पकाती रोटियां
नमक प्याज संग खाती।
चैन की नींद सो जाती।

Language: Hindi
451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
💐अज्ञात के प्रति-153💐
💐अज्ञात के प्रति-153💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
3232.*पूर्णिका*
3232.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बात उनकी क्या कहूँ...
बात उनकी क्या कहूँ...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
राधा
राधा
Mamta Rani
तेरी दुनिया में
तेरी दुनिया में
Dr fauzia Naseem shad
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
*Author प्रणय प्रभात*
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
चुप
चुप
Ajay Mishra
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
Loading...