Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 12, 2016 · 1 min read

कविता

सागर पर्वत दरिया पादप, सुंदर हर झरना नाला
थे सुन्दर वन जंगल जैसे, हरा पीला फूल माला |
शुद्ध हवा निर्मल जल धरती, सब प्रसाद हमने पाया
काला धुआँ दूषित वायु सब, हैं स्वार्थी मनुष्य जाया ||

पागलों ने काट पौधे सब, वातावरण को उजाड़ा
बे मौसम अब वर्षा होती, बे मौसम गर्मी जाडा |
ववंडर कहीं तूफ़ान कहीं, है प्रदुषण का नतीजा
कहीं सुखा तो कही जल प्रलय, होगी विध्वंस उर्वीजा* ||

समझे नहीं इंसान अब तक, अब तो समझना पडेगा
वरना बहुत देर न हो जाय, तब जीवन खोना पडेगा |
हवा पानी सब प्रदूषित है, सुरक्षित नहीं है दिल्ली
इन्द्रप्रस्थ बन गया अब तो, सब मूढ़ का शेखचिल्ली ||
*उर्वीजा –जो पृथ्वी से उपजा हो

कालीपद ‘प्रसाद’

165 Views
You may also like:
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बदला
शिव प्रताप लोधी
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️नींद✍️✍️
"अशांत" शेखर
तन्हाई
Alok Saxena
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
सुन री पवन।
Taj Mohammad
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
रुक क्यों जाता हैं
Taran Verma
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
Loading...