Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2016 · 1 min read

कविता

#कविता?

कभी पुष्प सी कभी शूल सी,
जीवन की सच्चाई कविता.!
कुछ शब्दों को पंख लगा कर,
मैंने एक बनाई कविता.!!

जीवन के उन्मुक्त सफ़र में,
ठंडी शीतल माई कविता.!
कभी पिता के गुस्से जैसी,
बहलाई फुसलाई कविता.!!

शब्दों का अभिभावक बन कर,
कलमकार की जाई कविता.!
नन्ही अल्हड बिटिया जैसी,
रूठी और मनाई कविता.!!

कभी नरम सी कभी गरम सी,
साजन सी हरजाई कविता.!
बिरहा की ठंडी रातों में,
तपती हुई रजाई कविता.!!

चापलूसी की कलम तले दब,
मुरझाई कुम्हलाई कविता.!
कोई बना “दुष्यंत” किसी ने,
बेच बेच कर खाई कविता.!!

©आलोचक

Language: Hindi
479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
है एक डोर
है एक डोर
Ranjana Verma
2522.पूर्णिका
2522.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
■ सड़ा हुआ फल ताज़ा नहीं हो सकता। बिगड़ैल सुधर नहीं सकते। जब तक
■ सड़ा हुआ फल ताज़ा नहीं हो सकता। बिगड़ैल सुधर नहीं सकते। जब तक
*Author प्रणय प्रभात*
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
समय की गांठें
समय की गांठें
Shekhar Chandra Mitra
महाराजाअग्रसेन ( ऐतिहासिक कथा)
महाराजाअग्रसेन ( ऐतिहासिक कथा)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-534💐
💐प्रेम कौतुक-534💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
अफ़सोस का बीज
अफ़सोस का बीज
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...