Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2016 · 1 min read

कविता – शिक्षक

जैसे माली पौधों को सही करता है नित काट – छाँट कर ,
वैसे ही शिक्षक छात्रों को सही करता है डाँट – डाँट कर ।
कुम्भकारवत् छात्रों पर ऊपर से तो करता है बार ,
माँवत् अन्दर से छात्रों से वही शिक्षक करता है प्यार ।
वर्तनवत् जो चमकाता है छात्रों को नित माँज – माँजकर ।। जैसे …….
अनुभव के अनमोल कणों से जो छात्रों को सिखलाता है ,
खुद जलकर जो दीपकवत् छात्रों को सत्पथ दिखलाता है ।
छात्रों को जो शिक्षा देता ज्ञान को सब में बाँट – बाँट कर । जैसे …………..
Blackboard पर चौक घिस – घिस कर जो छात्रों को नित है पढाता ,
ICT का प्रयोग करके जो छात्रों को खूब सिखलाता ।
जो छात्रों को आगे बढाता उनकी योग्यता माप – माप कर ।। जैसे ………
समाज में व्याप्त कुरीतियों और अंधविश्वास को दूर भगाता ,
भूले – भटके वेबस लोगों को जो नित नयी राह दिखाता ।
जो समाज को आगाह करता आशंका को भाँप – भाँप कर ।। जैसे ……….
ब्रह्मा विष्णु कहाने वाले को माना ईश्वर से बढकर
जग को प्रकाशित करता जैसे रवि करता आसमान में चढ़कर ।
जो उद्देश्य को प्राप्त करता जैसे मेहनती करता हाँफ – हाँफ कर ।। जैसे ……….
आज वही शिक्षक बन रहा निजी प्रबन्ध की कठपुतली ,
बंदिशों अति अल्प वेतन के कारण जिसकी हालत रहती पतली ।
भयभीत सा वह रहने वाला नित जीता है काँप – काँप कर ।। जैसे ………..
:-डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Language: Hindi
390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज का युवा कैसा हो?
आज का युवा कैसा हो?
Rachana
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
3018.*पूर्णिका*
3018.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
"पल-पल है विराट"
Dr. Kishan tandon kranti
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
शब्द मधुर उत्तम  वाणी
शब्द मधुर उत्तम वाणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
कोशिशों में तेरी
कोशिशों में तेरी
Dr fauzia Naseem shad
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
नसीब
नसीब
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
👍👍👍
👍👍👍
*प्रणय प्रभात*
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...