Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

कविता :– शायर ! सुर छेड़ दिये ……दिल वालों की महफिल में !!

शायर ! सुर छेड़ दिये …….दिल वालों की महफिल में !!

सुर छेड़ दिये हमने अपने ,
जो धधक रहे थे इस दिल मे !
कातिल मुखड़ो से भरी हुई ,
दिल वालों की उस महफिल मे !!

एक शायर इस पार खड़ा ,
एक शायर उस पार खड़ा !
शायर ने जब शेर किये ,
शब्दो को चकनाचूर किये !!

सुर से सुर की सौगात हुई ,
फिर धुआंधार बरसात हुई !
घायल हो हो कर प्राण चले ,
जब वाणी से तीर कमान चले !!

सुर दुल्हन से सजे हुए ,
जज्बातों की एक डोली मे !
रंगे हुए थे हर मुखड़े ,
मुखडों के सुर की होली मे !!

महफिल में चाँद से मुखड़े थे ,
पर मुखड़े उखड़े उखड़े थे !
शायर के हर मुखड़े में ,
भावो के टुकड़े-टुकड़े थे !!

मुखड़ो के कायल मुखड़े भी ,
मुखड़े से घायल मुखड़े भी !
मुखड़े से मुखड़े टकराते ,
मुखड़े के टुकड़े हो जाते !!

मुखड़े के हर मुखड़े नें ,
मुखड़ो को झकझोर दिये !
मुखड़े के जज्बात यहाँ ,
मुखड़े से भाव विभोर हुए !!

मुखड़े की हालत कुछ ऐसी ,
मुखड़े में फर्माया था !
टकटकी लगा हर मुखड़ा ,
मुखड़े पे गौर जमाया था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 984 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
Sukoon
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
3132.*पूर्णिका*
3132.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मजदूर
मजदूर
Dinesh Kumar Gangwar
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
दिल लगाया है जहाॅं दिमाग न लगाया कर
दिल लगाया है जहाॅं दिमाग न लगाया कर
Manoj Mahato
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“Do not be afraid of your difficulties. Do not wish you coul
“Do not be afraid of your difficulties. Do not wish you coul
पूर्वार्थ
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
Rituraj shivem verma
कर्मयोगी
कर्मयोगी
Aman Kumar Holy
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*
*"सीता जी का अवतार"*
Shashi kala vyas
माँ
माँ
Anju
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...