Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

कविता :– शायर ! सुर छेड़ दिये ……दिल वालों की महफिल में !!

शायर ! सुर छेड़ दिये …….दिल वालों की महफिल में !!

सुर छेड़ दिये हमने अपने ,
जो धधक रहे थे इस दिल मे !
कातिल मुखड़ो से भरी हुई ,
दिल वालों की उस महफिल मे !!

एक शायर इस पार खड़ा ,
एक शायर उस पार खड़ा !
शायर ने जब शेर किये ,
शब्दो को चकनाचूर किये !!

सुर से सुर की सौगात हुई ,
फिर धुआंधार बरसात हुई !
घायल हो हो कर प्राण चले ,
जब वाणी से तीर कमान चले !!

सुर दुल्हन से सजे हुए ,
जज्बातों की एक डोली मे !
रंगे हुए थे हर मुखड़े ,
मुखडों के सुर की होली मे !!

महफिल में चाँद से मुखड़े थे ,
पर मुखड़े उखड़े उखड़े थे !
शायर के हर मुखड़े में ,
भावो के टुकड़े-टुकड़े थे !!

मुखड़ो के कायल मुखड़े भी ,
मुखड़े से घायल मुखड़े भी !
मुखड़े से मुखड़े टकराते ,
मुखड़े के टुकड़े हो जाते !!

मुखड़े के हर मुखड़े नें ,
मुखड़ो को झकझोर दिये !
मुखड़े के जज्बात यहाँ ,
मुखड़े से भाव विभोर हुए !!

मुखड़े की हालत कुछ ऐसी ,
मुखड़े में फर्माया था !
टकटकी लगा हर मुखड़ा ,
मुखड़े पे गौर जमाया था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 825 Views
You may also like:
मन की उलझने
Aditya Prakash
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
साँप का जहर जीवन भी देता है
राकेश कुमार राठौर
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मै कैसे गलत हूँ ईश्वर?
Anamika Singh
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आजाद वतन के वासी हम
gurudeenverma198
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मानवता
Dr.sima
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
जीवन का गीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क की आग।
Taj Mohammad
यादें
kausikigupta315
देश के लिए है अब जीना मरना
Dr Archana Gupta
"मेरा मन"
Dr Meenu Poonia
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
भारत के 'लाल'
पंकज कुमार कर्ण
✍️लोग जमसे गये है।✍️
'अशांत' शेखर
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार जताना न आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
प्रीत
अमरेश मिश्र 'सरल'
२४३. "आह! ये आहट"
MSW Sunil SainiCENA
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
Loading...