Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2018 · 2 min read

कविता: तुम्हें तो याद करता

तुम्हें तो याद करता अपना ईश मानकर

है जिसने रखा मेरी यादों को संभालकर

जब थक गया था बियाबानों में भागकर

लौटाया सही राहों पे मुझको पुकारकर

***

हंसती रही दुनिया मुसीबतों में डालकर

लहूलुहान कर डाला पत्थरों से मारकर

एक तुम आ गये सबको दरकिनार कर

भर लिया बांहों में मीत मुझको मानकर

***

मिला गया नया आयाम तुमसे बोलकर

कर ली थी कुछ बातें दिल को खोलकर

लाए थे जिंदगी में सब उमंगें उछालकर

आंखों को मिले तृप्ति तुमको निहारकर

***

फिर छा गये जीवन में तुम तो बहार बन

और घिर गई घटाएं तुम बरसे फुहार बन

धवल तो कर गये फिर जीवन निखारकर

नाच उठता मन मयूर पंखों को उघारकर

***

हो गये संपूर्ण तुम्हारी भाषा को सीखकर

न किसी को देख पाये तुमको तो देखकर

सहम गए सागर तो गहराइयों को देखकर

रुकते गये सितारें तेरी चमक को देखकर

***

मुरझा गए तो पुष्प तेरी महक को देखकर

पंक्षी भी चौक गये तेरी चहक को देखकर

झुका हुआ आकाश ऊंचाइयों को देखकर

तुम देकर गये पैगाम हवाओं को रोककर

***

उल्लासों से भर गया अलपक निहारकर

भरा हर्ष से मुझको संघर्षों को विरामकर

गति को प्रगति मिली दामन को थामकर

रचता गया इतिहास समन्दर को पारकर

***

पथ सुगम बना दिया फूलों को डालकर

चल तो दिया साथ में घर बार छोड़ कर

लोग खुद हट गये हार तुमसे से मानकर

और आ गया प्रकाश अन्धकार चीरकर

***

हरदम खड़ा मिलूंगा प्रियतम के द्वार पर

अपेक्षा नहीं बची कुछ यहां तो पहुंचकर

आ गया तेरे पास में अहम को उतारकर

दीजिए शरण मुझे अपना दास जानकर

***

रामचन्द्र दीक्षित’अशोक’

Language: Hindi
280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
😊 व्यक्तिगत मत :--
😊 व्यक्तिगत मत :--
*प्रणय प्रभात*
3223.*पूर्णिका*
3223.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
ऐसे रूठे हमसे कि कभी फिर मुड़कर भी नहीं देखा,
ऐसे रूठे हमसे कि कभी फिर मुड़कर भी नहीं देखा,
Kanchan verma
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
जुदाई
जुदाई
Shyam Sundar Subramanian
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेहनत और अभ्यास
मेहनत और अभ्यास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
छोड़ दिया ज़माने को जिस मय के वास्ते
छोड़ दिया ज़माने को जिस मय के वास्ते
sushil sarna
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
डूबे किश्ती तो
डूबे किश्ती तो
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़माने की नजर में बहुत
ज़माने की नजर में बहुत
शिव प्रताप लोधी
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
सरपरस्त
सरपरस्त
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
तुमसे अक्सर ही बातें होती है।
तुमसे अक्सर ही बातें होती है।
Ashwini sharma
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
Dr. Narendra Valmiki
Loading...