Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2016 · 1 min read

कविता :– एक सपना ………अखण्ड भारत का !!

एक सपना …… अखण्ड भारत का !!

माँ का आँचल छीन रहे,
जो पाला इन हुरदंगो को !
अस्मत माँ की मैली करते,
कर हिंदू-मुस्लिम दंगो को !!

आज पाक संग मस्ती करते,
गाँवों मे गलियारों मे !
पर देश का सौदा कर डाला,
कूछ घर के गद्दारों ने !

सरदार पटेल जी का वीणा,
गर कोई नहीँ उठाएगा !
एक अखंड भारत का सपना ,
सपना ही रह जायेगा !!

Language: Hindi
1 Like · 6 Comments · 5217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
DrLakshman Jha Parimal
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
Paras Nath Jha
ग़म
ग़म
Dr.S.P. Gautam
मेरे अंतस में ......
मेरे अंतस में ......
sushil sarna
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
महताब जमीं पर
महताब जमीं पर
Satish Srijan
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
Ravi Prakash
दर्द
दर्द
Rekha Drolia
रमणीय प्रेयसी
रमणीय प्रेयसी
Pratibha Pandey
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
"सत्ता से संगठम में जाना"
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
The_dk_poetry
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
अल्फ़ाज़ मुख़्तसर हैं
अल्फ़ाज़ मुख़्तसर हैं
Dr fauzia Naseem shad
ऐ जिंदगी....
ऐ जिंदगी....
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
💐प्रेम कौतुक-284💐
💐प्रेम कौतुक-284💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
Loading...