Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2019 · 2 min read

कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
********************************************

घनी अंधेरी रात भयी, चाँद निकलने वाला है।
चटक चांदनी छटा बिखेरे, फैला श्वेत उजाला है।
चंदा मामा कहे धरती से, लगता बहुत निराला है,
एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

स्वर्ग से सुंदर दिखने वाली, बहना हाल सुनाओ तुम।
उपहार में क्या क्या लोगी, मन के भाव बताओ तुम।
टिम टिमाते तारे बोले, क्या पसंद तुम्हें दुशाला है।
एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

धैर्यशाली धरती बोली, बहुत दुःखी मैं रहती हूँ।
मानव बागी हो गया है, नित नए दर्द मैं सहती हूँ।
जलते जंगल मरते जीव, उठता धुंआ अब काला है।
एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

मानव मानव में प्रेम नहीं, दुश्मन बने सब धांसू हैं।
बहन बेटी लाज बचाती, माँ की आंख में आंसू हैं।
मरते भूखे नन्हे बच्चे, भ्रष्टों के गले माला है।
एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

परमाणु बम सीने पर रखे, जीना मुश्किल हो गया।
घुलता ज़हर पानी में अब, पीना मुश्किल हो गया।
सूखी झीलें सूखे ताल, नदिया बनी अब नाला है।
एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

बिजली और प्लास्टिक ने, बड़ी हानि पहुँचायी है।
सीना छलनी कर दिया है, कब्र मेरी खुदवायी है।
सांठ गाँठ है सबकी इसमें, सबकी जुबां पर ताला है।
एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।

भैया तुम बचके रहना, मानव तुम तक आ गया।
करना मेरी रक्षा हमेशा, संकट भारी छा गया।
हो गए मानव गूंगे बहरे, कोई न सुनने वाला है।
राखी मैं तुम्हे भेजूँगी, रक्षाबंधन आने वाला है।

****************📚*****************

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

3 Likes · 907 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
Neeraj Agarwal
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
ज़िंदगी ज़िंदगी ही होतीं हैं
ज़िंदगी ज़िंदगी ही होतीं हैं
Dr fauzia Naseem shad
"शख्सियत"
Dr. Kishan tandon kranti
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
💐प्रेम कौतुक-502💐
💐प्रेम कौतुक-502💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ लघुकथा / लेखिका
■ लघुकथा / लेखिका
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
कविता
Rambali Mishra
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
Anil chobisa
*वृद्ध-जनों की सॉंसों से, सुरभित घर मंगल-धाम हैं (गीत)*
*वृद्ध-जनों की सॉंसों से, सुरभित घर मंगल-धाम हैं (गीत)*
Ravi Prakash
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Jatashankar Prajapati
ये मेरा स्वयं का विवेक है
ये मेरा स्वयं का विवेक है
शेखर सिंह
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
चांदनी रातों में
चांदनी रातों में
Surinder blackpen
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरी चाहत हमारी फितरत
तेरी चाहत हमारी फितरत
Dr. Man Mohan Krishna
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...