Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2017 · 2 min read

कविताएँ

वक्त की हुंकार

यह कैसी वक्त की हुंकार मिलती है |
हो रही मानवता तार –तार मिलती है ||

मेरे बेटों –बहुओं से मुझे बचाओ तुम |
बेचारी करती बूढ़ी माँ पुकार मिलती है ||

आश्वासनों की घुट्टी जनता को पिला-पिला |
सत्ता शिलान्यासों से ही करती उधार मिलती है ||

दहेज-लोभियों के घर में आजकल |
बेचारी बेटी भोगती कारागार मिलती है ||

कभी सूखे कभी बाढ़ से कराहती हुई |
आज धरती उगलती अंगार मिलती है ||

सिसकती सरगोशियों का मंजर लिए हुए
पतझड़ के दामन में बहार मिलती है ||

रातों-रात अमीर बनने की हसरत लिए हुए |
युवा-शक्ति शार्टकट की शिकार मिलाती है ||

फन फैलाये आंतकवाद की जहरीली सर्पिणी|
देश-दुनिया डसने को तैयार मिलती है ||

मर गये स्वप्न सारे उम्र की दहलीज पर |
बोझ ढोती पीठ बूढ़ी लाचार मिलती है ||

‘दर्द’ की कलम लिखकर कड़वा सच आज का |
दुनियावालों को करती ख़बरदार मिलती है ||

मुस्कुराना चाहिए
मुश्किलें हों लाख फिर भी मुस्कुराना चाहिए |
आदमी को आदमी के काम आना चाहिए ||

बहकावे में आ भटक गये हैं जो अपनी राह से |
उंगली पकड़कर फिर उन्हें राह पे लाना चाहिए ||

सदियों से पसरा है यहाँ खौफ एक अंधेर का |
एक दीया उस दहलीज पर जलाना चाहिए ||

अपने ही थे वो लोग जो बैरी बने बैठे हैं |
पयाम दोस्ती का उस ओर जाना चाहिए ||

बाद में आती हैबात अपने अधिकार की |
फर्ज अपना यार मेरे पहले निभाना चाहिए ||

नायाब तोहफा है खुदा का यह जो मिली जिन्दगी |
इसका एक-एक पल काम आना चाहिए ||

धारा की दिशा में बहती हैं मरी मछलियाँ |
जिंदादिली को भंवर में आजमाना चाहिए ||

छीनता है जो रोटियां मुफलिसों के हाथ से |
कटघरे में बेनकाब कर दिखाना चाहिए ||

शूरवीरों-दानवीरों की गाथाओं से भरी |
दर्द किताबों में अपना नाम आना चाहिए ||

Language: Hindi
419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
अफ़सोस का बीज
अफ़सोस का बीज
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
2855.*पूर्णिका*
2855.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
आर.एस. 'प्रीतम'
"संयोग-वियोग"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
"एक ख्वाब टुटा था"
Lohit Tamta
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
Hello Sun!
Hello Sun!
Buddha Prakash
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
कवि दीपक बवेजा
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
Touch the Earth,
Touch the Earth,
Dhriti Mishra
हमको
हमको
Divya Mishra
Loading...