Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 2 min read

कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।

कल रात सपने में प्रभु मेरे आए,
भक्त वत्सल थे ,
वात्सल्य रस से नहाए,
मुझसे यह पूछा,
वत्स क्या कष्ट है,
विचलित क्यों इतना है,
इतना क्यों रुष्ट है,
मैं उनकी आभा देखता ही रह गया,
स्वप्न में स्वप्न है क्या ,
सोचता ही रह गया,
भावों के अतिरेक से मैं इतना भर गया,
शब्दों का ज्ञान मेरा सारा ही मर गया,
स्थिति को देख प्रभु पुनः मुस्कराए,
आनंद मूर्छा से मुझको जगाए,
आंखे खुली मैंने चेतनता पाई,
अपनी व्यथा मैने उनसे बताई ,
आपके आगमन से अस्तित्व मेरा,
नंदन वन हो रहा,
पर उसके ऊपर काले बादल मंडरा रहे,
शुभ , अशुभ , शास्त्रीय , अशास्त्रीय के घनघोर गर्जन से,
हमको डरा रहे,
भयभीत नहीं किंतु हम चिंतित अवश्य हैं,
मन में आशंका पुनः पुनः आती है,
शंका वह विचलित बहुत कर जाती है,
आनंद अतिरेक में कहीं अनुचित तो न कर रहे,
अमंगल , अशोभित कुछ दूषित तो न कर रहे,
प्रभु की मुस्कराहट तनिक गहराई,
स्नेह सिक्त वाणी से स्वर सुधा आई,
सारा विवाद प्रेम के कारण है,
जो कुछ भी हो रहा सब कुछ सकारण है,
जीवन में मानव के मंथन आवश्यक है,
गहनतर से गहनतर चिंतन आवश्यक है,
ज्ञानी जन सदैव प्रश्नों में रहते हैं,
व्याख्या के संसारों में बहुधा वे रमते हैं,
अपने आनंद की सरिता को बहने दे,
उनको विवादों के रस में तू रमने दे,
भक्तों की भक्ती से मन मेरा हर्षित है,
जितने वे पुलकित हैं,
मन मेरा पुलकित है,
आंधी , बवंडर, प्रभंजन थम जाएगा,
भक्ति में डूबा यदि तू मुस्कराएगा,
मर्यादित जो बात करें उनके वचन में हूं,
भक्त मेरे मन में मैं भक्तों के मन में हूं।
Kumar Kalhans

Language: Hindi
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
Rajni kapoor
*अंतिम समय बीते कहाँ, जाने कहाँ क्या ठौर हो 【मुक्तक】*
*अंतिम समय बीते कहाँ, जाने कहाँ क्या ठौर हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-184💐
💐प्रेम कौतुक-184💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
"मान-सम्मान बनाए रखने का
*Author प्रणय प्रभात*
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खामोशी की आहट
खामोशी की आहट
Buddha Prakash
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
जियो तो ऐसे जियो
जियो तो ऐसे जियो
Shekhar Chandra Mitra
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
3168.*पूर्णिका*
3168.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दादी की वह बोरसी
दादी की वह बोरसी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी झंड है,
जिंदगी झंड है,
कार्तिक नितिन शर्मा
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
gurudeenverma198
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
"अन्दाज"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
Loading...