Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

कल रहूॅं-ना रहूॅं..

कल रहूॅं-ना रहूॅं…
—————–

‘पिता’ कहे , सुन ‘पुत्र’ तू मेरा;
तू देखे , नित ही ‘नया-सबेरा’;
चाहूॅं मैं,सुखद हो तेरी ‘जिंदगी’;
मैं हर-पल साथ रहूॅं ,सदा तेरा;
हमेशा यही,निज मन कहे मेरा।

पर क्या करूं; कल रहूॅं-ना रहूॅं…

आओ आज, मन की बात कहूॅं;
दुनियां है जालिम, तू नादान हो;
चाहता,पूरे तेरे सारे अरमान हो;
कोई चिंता न तुझे हो,जो मैं रहूॅं;
तेरे खातिर ही मैं,सारा कष्ट सहूँ।

पर, उम्र हो गई; कल रहूॅं,ना रहूॅं…

आओ सुन लो,मेरा ये भी संदेश;
किसी से मत रख , ईर्ष्या व द्वेष;
बदलो स्वभाव से, निज परिवेश;
याद रख तू , मेरी ये बात विशेष;
हो रही अब, मेरी आयु यह शेष।

क्या पता,मैं तो;कल रहूॅं,ना रहूॅं…

जानो तुम , ये बात भी अब मेरी;
धैर्य रखना, ‘जीवन’ में है जरूरी;
दुख-दर्द भी , सताएंगे ही जरूर;
तुम संभलना व सब संभालना;
मैं तो इसलिए तुम्हें, ये बात कहूॅं।

क्या ठिकाना; कल रहूॅं, ना रहूॅं…

सत्य आगे ही, कभी झुकना तुम;
प्रगति पथ पे,कभी न रुकना तुम;
कर्तव्य पथ पे ही , हमेशा चलना;
मानना जरूर, जो समझा रहा हूॅं;
ये मत कहना की , कैसे कष्ट सहूॅं।

मेरा क्या अब; कल रहूॅं, ना रहूॅं…

सुन ‘सुपुत्री’ तू भी,एक बात मेरी;
दिल’ में दबी है जो,जज़्बात पूरी;
जब कभी तुम, पिया घर जायेगी;
वहां तू ससुर रूपी , पिता पाएगी;
मैं कभी जुदा नहीं , सदा साथ हूॅं।

पर वक्त का क्या;कल रहूॅं,ना रहूॅं..
कल रहूॅं,ना रहूॅं………
°°°°°°°°°°°°°°?°°°°°°°°°°°°°°

स्वरचित सह मौलिक
……✍️पंकज ‘कर्ण’
……. . …कटिहार।।

Language: Hindi
1 Like · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
चाय के दो प्याले ,
चाय के दो प्याले ,
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
"मुझे देखकर फूलों ने"
Dr. Kishan tandon kranti
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
SPK Sachin Lodhi
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
Neeraj Agarwal
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"The Power of Orange"
Manisha Manjari
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
■ आज की बात...!
■ आज की बात...!
*प्रणय प्रभात*
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक " जिंदगी के मोड़ पर " : एक अध्ययन
Ravi Prakash
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
Loading...