Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2022 · 1 min read

कल रहूॅं-ना रहूॅं…

कल रहूॅं-ना रहूॅं…
—————–

‘पिता’ कहे , सुन ‘पुत्र’ तू मेरा;
तू देखे , नित ही ‘नया-सबेरा’;
चाहूॅं मैं,सुखद हो तेरी ‘जिंदगी’;
मैं हर-पल साथ रहूॅं ,सदा तेरा;
हमेशा यही,निज मन कहे मेरा।

पर क्या करूं; कल रहूॅं-ना रहूॅं…

आओ आज, मन की बात कहूॅं;
दुनियां है जालिम, तू नादान हो;
चाहता,पूरे तेरे सारे अरमान हो;
कोई चिंता न तुझे हो,जो मैं रहूॅं;
तेरे खातिर ही मैं,सारा कष्ट सहूँ।

पर, उम्र हो गई; कल रहूॅं,ना रहूॅं…

आओ सुन लो,मेरा ये भी संदेश;
किसी से मत रख , ईर्ष्या व द्वेष;
बदलो स्वभाव से, निज परिवेश;
याद रख तू , मेरी ये बात विशेष;
हो रही अब, मेरी आयु यह शेष।

क्या पता,मैं तो;कल रहूॅं,ना रहूॅं…

जानो तुम , ये बात भी अब मेरी;
धैर्य रखना, ‘जीवन’ में है जरूरी;
दुख-दर्द भी , सताएंगे ही जरूर;
तुम संभलना व सब संभालना;
मैं तो इसलिए तुम्हें, ये बात कहूॅं।

क्या ठिकाना; कल रहूॅं, ना रहूॅं…

सत्य आगे ही, कभी झुकना तुम;
प्रगति पथ पे,कभी न रुकना तुम;
कर्तव्य पथ पे ही , हमेशा चलना;
मानना जरूर, जो समझा रहा हूॅं;
ये मत कहना की , कैसे कष्ट सहूॅं।

मेरा क्या अब; कल रहूॅं, ना रहूॅं…

सुन ‘सुपुत्री’ तू भी,एक बात मेरी;
दिल’ में दबी है जो,जज़्बात पूरी;
जब कभी तुम, पिया घर जायेगी;
वहां तू ससुर रूपी , पिता पाएगी;
मैं कभी जुदा नहीं , सदा साथ हूॅं।

पर वक्त का क्या;कल रहूॅं,ना रहूॅं..
कल रहूॅं,ना रहूॅं………
°°°°°°°°°°°°°°?°°°°°°°°°°°°°°

स्वरचित सह मौलिक
……✍️पंकज ‘कर्ण’
……. . …कटिहार।।

Language: Hindi
4 Likes · 529 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्यों बनना गांधारी?
क्यों बनना गांधारी?
Dr. Kishan tandon kranti
*हनुमान प्रसाद पोद्दार (कुंडलिया)*
*हनुमान प्रसाद पोद्दार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़ख़्म-ए-दिल आज मुस्कुरा देंगे
ज़ख़्म-ए-दिल आज मुस्कुरा देंगे
Monika Arora
■ एक होते हैं पराधीन और एक होते हैं स्वाधीन। एक को सांस तक ब
■ एक होते हैं पराधीन और एक होते हैं स्वाधीन। एक को सांस तक ब
*प्रणय प्रभात*
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
Untold
Untold
Vedha Singh
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
महादेव
महादेव
C.K. Soni
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पिता
पिता
Dr Manju Saini
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...