Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2023 · 1 min read

कल तक थे वो पत्थर।

कुछ तो खास है उसमें,
यूं ही नहीं हम खुद को मिटा बैठे हैं।।
है तसव्वुर या हकीकत,
जानें किस से हम दिल लगा बैठे है।।

कातिल आदाएं उनकी,
हम अपने दिल ओ जां गवां बैठे है।।
बर्बादी का मंजर देखो,
इश्क में हम सब कुछ लुटा बैठे है।।

कल तक थे वो पत्थर,
आज खुदको जो खुदा बना बैठे हैं।।
उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
जो मेरे लबों पे बन के दुआ बैठे है।।

जाम लेकर कोई आए,
हम मैखाने में कब से तन्हा बैठे हैं।।
मेरे हंसने पर ना जाना,
दर्दों को हम सीने में छुपा लेते हैं।।

हम दूर ही अच्छे उनसे,
जो अफवाहों को बस हवा देते हैं।।
उनसे अल्लाह बचाए,
जो पीठ पीछे खन्जर चला देते है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
"तर्के-राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
पूर्वार्थ
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
2362.पूर्णिका
2362.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मध्यम परिवार....एक कलंक ।
मध्यम परिवार....एक कलंक ।
Vivek Sharma Visha
कुछ बातों का ना होना अच्छा,
कुछ बातों का ना होना अच्छा,
Ragini Kumari
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
#अमृत_पर्व
#अमृत_पर्व
*प्रणय प्रभात*
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
शाइरी ठीक है जज़्बात हैं दिल के लेकिन
शाइरी ठीक है जज़्बात हैं दिल के लेकिन
Neeraj Naveed
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
हिन्दु नववर्ष
हिन्दु नववर्ष
भरत कुमार सोलंकी
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
"किनारे से"
Dr. Kishan tandon kranti
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
Phool gufran
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
संस्कृत के आँचल की बेटी
संस्कृत के आँचल की बेटी
Er.Navaneet R Shandily
Loading...