Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।

गज़ल

221…..2122….221…..2122
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
इस उम्र में वो आखिर, ढूंढे कहां सहारे।1

जिसने था घर बनाया, उसको जगह नहीं है,
दिल फट रहा है मेरा, मां बाप है तुम्हारे।2

जन्मा था पाला पोसा औ’र जिंदगी सॅंवारी,
जब बन गये हो काबिल, उनको ही तुम बिसारे।3

थोड़ा सा प्यार थोड़ी, मनुहार दीजिए बस,
ये वक्त है उन्हें दो तुम प्यार के फुहारे।4

दिल को शुकूं मिलेगा, उनको भी और तुमको,
जीवन के दिन बचे जो बच्चों के सॅंग गुजारे।5

जिनके नहीं पिता मां, क्या उनका दर्द पूछो,
बचपन में साथ छूटा, जो आंख के थे तारे।6

मुमकिन नहीं है दुनियां में प्यार उन सा पाना,
ऐसा न कोई प्रेमी, दुनियां से वो थे प्यारे।7

………….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
शक
शक
Paras Nath Jha
संगीत
संगीत
Vedha Singh
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
*अच्छा रहता कम ही खाना (बाल कविता)*
*अच्छा रहता कम ही खाना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कभी
कभी
Ranjana Verma
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
2434.पूर्णिका
2434.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
खुर्पेची
खुर्पेची
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Aadarsh Dubey
रखो अपेक्षा ये सदा,  लक्ष्य पूर्ण हो जाय
रखो अपेक्षा ये सदा, लक्ष्य पूर्ण हो जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...