Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 5, 2016 · 1 min read

कली

कली
✍✍

बगियाँ में जब एक
कली खिली
आ भँवरे ने एक
बार घूरा
कली सहम सी उठी
भँवर बाबला
हो निकला
परत दर परत खुलते
कली के
रंग यौवन का
चढ़ने लगा
बात कहे कैसे भँवरा
दिल की
कली का पीछा
करने लगा
हो जाता जब सबेरा
चैन तब उसको
आ जाता
इन्तजार बना रहता
भँवरे को
कली जब खुलने
को आतुर होती
रोज की दिनचर्या थी भँवरे की
रोज आना
बैठ कली पर मधुपान
करना
रोक नही पाता
भँवरा
न कली बिन देखे
रह पाती
एक दूजे को था
इन्तजार
यहीं इन्तजार था
भावी जीवन
का आगाज और भविष्य
आदी थे इतने
एक दूसरे के
कि
बिन देखे न रह
पाते

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 228 Views
You may also like:
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
✍️खुशी✍️
"अशांत" शेखर
पंचशील गीत
Buddha Prakash
डरता हूं
dks.lhp
✍️✍️बूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️मेरे हाथों में सिर्फ लकीऱे है✍️
"अशांत" शेखर
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
पिता
Dr.Priya Soni Khare
मां-बाप
Taj Mohammad
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
की बात
AJAY PRASAD
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
Nurse An Angel
Buddha Prakash
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...