Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये

कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये

कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
बनता है इंसान कैसे हैवान देखिये
माया के पीछे पड इंसानियत कैसे खोती है देखिये
होती है कैसी हैवान की सकल देखिये
जलती हुई लाशे है या जलती हुई इंसानियत देखिये
नर के रूप में कैसे है नर भक्षी देखिये
युगो युगो से पिशाच ओर परमेश्वर का वास रहा है
अब भी किसी में परमेश्वर तो किसी में पिशाच देखिये
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
सब ने महसूस किया जो वो एहसास देखिये
प्रकृति करती है कैसे विधवंस देखिये
प्रकृति के रूदन के बाद का दृश्य देखिये
पंक्षियो के मधुर गान का मौन देखिए
महाभयंकर हो रहा प्रकृति का ताडंव देखिये
खुद अपने ही हाथो अपनी तबाही देखिये
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज )

205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
मेरा कौन यहाँ 🙏
मेरा कौन यहाँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
जीवन का सफर
जीवन का सफर
Sidhartha Mishra
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
3172.*पूर्णिका*
3172.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
Buddha Prakash
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम
तुम
Er. Sanjay Shrivastava
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
किसी के प्रति
किसी के प्रति "डाह"
*Author प्रणय प्रभात*
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर पर है आज का दिन
सफर पर है आज का दिन
Sonit Parjapati
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
Loading...