Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2022 · 1 min read

“कलयुग का मानस”

“कलयुग का मानस”

संसार की हालत हुई

आज बुरी हे भगवान

खुद की कमी अस्वीकारे

दुसरों के सुख से परेशान,

ना परिवार के साथ

बैठकर गप्पे लड़ाए

ना ही मैदान में वह

कभी कसरत करने जाए,

पड़ोसी क्यूं सुखी बैठा

क्यूं वह मुस्कुराए

क्यूं कार खड़ी उसके गैराज में

क्यूं वह बगीचा लगाए,

निज स्वभाव के बारे में

नगण्य ही सोच रखे

पड़ोसी की निगरानी में

स्वयं को व्यस्त रखे,

टांग खिंचने में लगा रहे

गलियों में ठाला चुगली पुकारे

ना दूसरों को चैन से जीने दे

ना ही शांति से स्वयं जिंदगी गुजारे।

Language: Hindi
1 Like · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
2859.*पूर्णिका*
2859.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
Every morning, A teacher rises in me
Every morning, A teacher rises in me
Ankita Patel
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
Vicky Purohit
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शून्य ....
शून्य ....
sushil sarna
#कविता
#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
हर कोरे कागज का जीवंत अल्फ़ाज़ बनना है मुझे,
हर कोरे कागज का जीवंत अल्फ़ाज़ बनना है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सोच
सोच
Sûrëkhâ Rãthí
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
Anand.sharma
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
परिवर्तन
परिवर्तन
RAKESH RAKESH
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
श्याम सिंह बिष्ट
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
Ravi Prakash
हमें याद आता  है वह मंज़र  जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
हमें याद आता है वह मंज़र जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
DrLakshman Jha Parimal
Loading...