कलम का कमाल

कलम का कमाल

क्या कहु इस कलम को जाने ये क्या कर जाए,
हाथ लगी जैसी संगत वैसा कमाल कर दिखाए II

जब आई हाथ में नन्हे मुन्ने के खूब रंग सजाये
अजब गजब लकीरो में अपनी सौम्यता बिखराये II

जब-जब रही हाथ गुरु के कुछ नया सबक सिखाये
कर अपना जीवन अर्पण नवयुग का निर्माण कराये II

देखो ये सुन्दर तस्वीर,किन हाथो ने करतब रचाये
कैसा सुन्दर घरोंदा बने जब वास्तुकार नक्शा बनाये II

नौकरशाह के जब हाथ में हो ये खूब नाच नचाये
आगे पीछे दौड़े दुनिया फिर भी खून के आंसू रुलाये II

छुए हाथ जब न्यायाधिपति का जीवन सफल बनाये
कर इन्साफ सच झूठ का दुनिया को न्याय दिलाये II

करती कभी ऐसा गजब भी देख तन-मन थर्राए
कसूरवार को बरी करे और बेकसूर शूली चढ़ जाए II

कह सके न जो जुबान से वो ये कर दिखलाती है
देखो कैसे मजनू को ये शायर का ख़िताब दिलाती है II

चलती है जब ये अपनी लय में प्रेम गीत बन जाता है
खट्टी मीठी यादे संजोकर दुनिया में इतिहास बन जाता है II

कभी इनायत कभी क़यामत बड़े तजुर्बे सिखाती है
पल में रुला दे पल में हँसा दे ऐसे वचन बनाती है II

नेता जी की जुबान जब फिसले शोधन कलम से कराये
करते हर पल झूठे वादे फिर भी कानून जग को सिखाये II

कलम बनी हाथ की कठपुतली,जाने कैसे कैसे लोग नचाये
जिसने तुकझो दिल से पूजा कलम का सिपाही कहलाये II

क्या करू बखान अपनी जुबान से अजब तेरी कहानी है
जन्म मरण की एक तू ही साक्षी, बिन तेरे चले न जिंदगानी है

>>>>> डी. के. निवातियाँ <<<<<<<<<<

2 Comments · 142 Views
You may also like:
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
पंचशील गीत
Buddha Prakash
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H.
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक संकल्प
Aditya Prakash
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
अरदास
Buddha Prakash
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H.
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
Loading...