Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

“कलम और तलवार”

“कलम और तलवार”
जब दिल में भाव जगाने हों
कलम चाहिए दो-चार,
दुश्मन को सबक सिखाने हों
तब भांजो तलवार।

1 Like · 1 Comment · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
हम अभी
हम अभी
Dr fauzia Naseem shad
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"" *इबादत ए पत्थर* ""
सुनीलानंद महंत
"एकता का पाठ"
Dr. Kishan tandon kranti
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
Sadhavi Sonarkar
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
Aarti sirsat
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
दोहा
दोहा
sushil sarna
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
gurudeenverma198
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
गले लगाना पड़ता है
गले लगाना पड़ता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
Taj Mohammad
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
Shreedhar
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
Anil chobisa
आज बुजुर्ग चुप हैं
आज बुजुर्ग चुप हैं
VINOD CHAUHAN
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
Rituraj shivem verma
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
Loading...