Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

कर बैठा गठजोड़

अपना वह घर गाँव का,जब से आए छोड़ ।
बरगद भी दीवार से , कर बैठा गठजोड़ ।।
रमेश शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज की प्रस्तुति: भाग 3
आज की प्रस्तुति: भाग 3
Rajeev Dutta
"रातरानी"
Ekta chitrangini
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Fastest technology since ages that is human mind .stop using
Fastest technology since ages that is human mind .stop using
Nupur Pathak
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो टूटता तारा भी कितनों की उम्मीदों का भार लिए खड़ा है,
वो टूटता तारा भी कितनों की उम्मीदों का भार लिए खड़ा है,
Manisha Manjari
दस्ताने
दस्ताने
Seema gupta,Alwar
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
'अशांत' शेखर
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
क़ानून का जनाज़ा तो बेटा
क़ानून का जनाज़ा तो बेटा
*Author प्रणय प्रभात*
💐 Prodigy Love-27💐
💐 Prodigy Love-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूल रहा जमकर फागुन,झूम उठा मन का आंगन
फूल रहा जमकर फागुन,झूम उठा मन का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
शेखर सिंह
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
** हद हो गई  तेरे इंकार की **
** हद हो गई तेरे इंकार की **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
इंसान ऐसा ही होता है
इंसान ऐसा ही होता है
Mamta Singh Devaa
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
"ऐ मुसाफिर"
Dr. Kishan tandon kranti
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
Loading...