Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2022 · 2 min read

कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य

कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
श्री राजेंद्र कुमार आर्य जी आर्य समाज पट्टी टोला रामपुर के अध्यक्ष थे । सर्वाधिक सक्रिय और जिम्मेदारी के भाव से भरे हुए व्यक्ति। आर्य समाज की पहचान जिन लोगों से होती है, वह उनमें से एक थे। पूरी गंभीरता के साथ प्रथम पंक्ति में आर्य समाज के कार्यक्रमों और गतिविधियों में सम्पूर्ण सजगता के साथ उनकी उपस्थिति रहती थी। जब भी मैं वेदकथा सुनने के लिए आर्य समाज जाता था, तो राजेंद्र कुमार आर्य जी वहां समय से पूर्व उपस्थित होते थे। समय के अनुशासन के महत्व को वह समझते थे। कार्यक्रम में अनुशासन तथा एक अनुशासित व्यवस्था का समावेश हो ऐसा उनका प्रयास रहता था ।उनके जैसे कर्मठ व्यक्ति आर्य समाज की भावना को आगे बढ़ाने वाले कम ही हैं।
वह प्रयत्न करके आर्य जगत के विद्वानों को समय-समय पर आमंत्रित करते थे । उनके कार्यक्रमों के प्रचार और प्रसार के लिए हाथ में पर्चे लेकर बाजारों में बांटने का काम तथा आग्रह पूर्वक सबको आर्य समाज में आमंत्रित करने की भूमिका का निर्वहन एक सामान्य कार्यकर्ता के नाते किया करते थे । इस तरह वह आर्य समाज के पदाधिकारी भी थे और कार्यकर्ता भी थे। तात्पर्य यह कि रामपुर के सार्वजनिक परिवेश को विशुद्ध वैदिक विचारों से भरने में उनका बड़ा भारी योगदान था।
वह एक राष्ट्रवादी व्यक्ति थे तथा बातचीतों में वह इसी बात का प्रतिपादन करते थे कि जब तक राष्ट्र के प्रति समर्पण और निष्ठा का भाव जन-जन में जागृत नहीं होगा, राष्ट्र की समस्याओं का समाधान नहीं हो पाएगा । उनका राष्ट्रीय दृष्टिकोण तथा आर्य समाज के साथ जुड़कर उस दृष्टिकोण को और भी बलवती करना, यह उनकी बहुत बड़ी उपलब्धि रही ।उनकी स्मृति को मेरा प्रणाम ।
रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश) मोबाइल 999 7615 451

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 436 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
"फितरत"
Ekta chitrangini
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
केवल पंखों से कभी,
केवल पंखों से कभी,
sushil sarna
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किस्मत भी न जाने क्यों...
किस्मत भी न जाने क्यों...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
Life isn't all about dating. Focus on achieving your goals a
Life isn't all about dating. Focus on achieving your goals a
पूर्वार्थ
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
Ranjeet kumar patre
"अजीब दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
*मृत्यु (सात दोहे)*
*मृत्यु (सात दोहे)*
Ravi Prakash
■ समझने वाली बात।
■ समझने वाली बात।
*प्रणय प्रभात*
चलता ही रहा
चलता ही रहा
हिमांशु Kulshrestha
सवाल जवाब
सवाल जवाब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
कवि रमेशराज
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
इस संसार में क्या शुभ है और क्या अशुभ है
इस संसार में क्या शुभ है और क्या अशुभ है
शेखर सिंह
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
Loading...