Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2022 · 1 min read

करुणा के बादल…

करुणा के बादल…

फिर बरसें प्रभु जग में तेरी,
करुणा के बादल।
हरी-भरी बसुधा, खुशियों की,
नदी बहे छलछल।

नदिया-सागर-ताल-सरोवर,
सब ही रीत गए।
सुख में गोते खाने के दिन,
जैसै बीत गए।
कुदरत लेकर आती अब तो,
रोज नयी हलचल।

सावन तो आता है लेकिन,
शुष्क चला जाता।
अंधड़ ऐसा आता, घर की
नींव हिला जाता।
खिलने से पहले मुरझाते,
आशा के शतदल।

परिंदों के नीड़़ उजड़ गए,
सूने वन-उपवन।
आपस में ही रगड़ा खाकर,
सुलगा करते वन।
कहाँ लगी है आग, बताती
आती जब दमकल।

हुए प्रदूषित मृदा-जल-वायु,
मिटे तत्व पोषक।
रक्त चूसते निर्बल जन का,
खुले आम शोषक।
कौन बताए कैसा होगा,
आने वाला कल।

भौतिक सुख के जोड़-तोड़ में,
हुए सभी अंधे।
भूल संस्कृति-सभ्यता अपनी
चुनें गलत धंधे।
तू ही सुझा राह अब कोई,
मन है बहुत विकल।

© डॉ0 सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ0प्र0)
“साहित्य उर्मि” में प्रकाशित

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Likes · 4 Comments · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
वफ़ा और बेवफाई
वफ़ा और बेवफाई
हिमांशु Kulshrestha
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
छोड़ो  भी  यह  बात  अब , कैसे  बीती  रात ।
छोड़ो भी यह बात अब , कैसे बीती रात ।
sushil sarna
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
Sonam Puneet Dubey
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
तुम इतने आजाद हो गये हो
तुम इतने आजाद हो गये हो
नेताम आर सी
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
चमन
चमन
Bodhisatva kastooriya
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
Mental health
Mental health
Bidyadhar Mantry
#बैठे_ठाले
#बैठे_ठाले
*प्रणय प्रभात*
Loading...