Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2024 · 1 min read

*करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार (कुंडलिया)*

करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार (कुंडलिया)
_________________________
करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार
कैसे बॉंटें देश को, इनका सोच-विचार
इनका सोच-विचार, जातिवादी ले आरी
काट रहे हैं पेड़, दे रहा छाया भारी
कहते रवि कविराय, वोट बैंकों को भरते
जाति बना हथियार, विभाजित भारत करते
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
भाई लोग व्यसन की चीज़ों की
भाई लोग व्यसन की चीज़ों की
*Author प्रणय प्रभात*
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
Ram Krishan Rastogi
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
2653.पूर्णिका
2653.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
गांव - माँ का मंदिर
गांव - माँ का मंदिर
नवीन जोशी 'नवल'
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
अंसार एटवी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
पेड़ से कौन बाते करता है ।
पेड़ से कौन बाते करता है ।
Buddha Prakash
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
वाणी से उबल रहा पाणि💪
वाणी से उबल रहा पाणि💪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
पूर्वार्थ
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
चाय (Tea)
चाय (Tea)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तब तात तेरा कहलाऊँगा
तब तात तेरा कहलाऊँगा
Akash Yadav
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
Loading...