Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

कमल का फूल, कमला के आंगन

कमल का फूल, कमला के आंगन में सजा अच्छा लगता है
कमला के आँगन में, वो सजा हुआ गमला अच्छा लगता है
महका देती है सारे वातावरण को ,उस कमल के फूल की पतियाँ
सच है …कमला के आंगन का माहोल…सब से अच्छा लगता है !!

इक सुख का एहसास करवा देती है, कमला का प्यार है उस में
न गर्मी, न बरसात , ना धूप और न गम का माहोल है उस में
सींच देती है, अपने हाथो से, उस सुख मय संसार को हर दिन
उस का यह अंदाज,….सब से ही अनोखा ……अब लगता है !!

अजीत तलवार
मेरठ

Language: Hindi
773 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2909.*पूर्णिका*
2909.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इसकी औक़ात
इसकी औक़ात
Dr fauzia Naseem shad
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
Munish Bhatia
पवनसुत
पवनसुत
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
नसीब
नसीब
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ जय हो...
■ जय हो...
*Author प्रणय प्रभात*
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
🪷पुष्प🪷
🪷पुष्प🪷
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
*प्यार से और कुछ भी जरूरी नहीं (मुक्तक)*
*प्यार से और कुछ भी जरूरी नहीं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नया
नया
Neeraj Agarwal
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...