Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

“कभी शाम को सिसकते सुना है “

कभी शाम को सिसकते सुना है ,
उदासी में बैठी विरहनी की तरह,
जब काजल आँसुओं में बह कर ,
क्षितिज में स्याह सी फैल जाती है ,
गीत विरह के गुनगुनाती,पुकारती ,
दिन भर के सफ़र से थकी हुई ,
मोरनी सी ऋंगार कर ,थिरकती ,
बाट जोहती और खो जाती रात में.
मैने शाम को उदास बैठे देखा है ,
उसे सुना है सिसकते हुए ,
देखा है मैने उसे आँसू बहाते,
और विरह वेदना में ,पुकारते –
पुकारते ,देखा है उसे खो जाते,
नि:शब्द, गहन और निष्ठुर रात में.
…निधि …

Language: Hindi
486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय जय जय जय बुद्ध महान ।
जय जय जय जय बुद्ध महान ।
Buddha Prakash
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
कब किसके पूरे हुए,  बिना संघर्ष ख्वाब।
कब किसके पूरे हुए, बिना संघर्ष ख्वाब।
जगदीश लववंशी
*मंदिर यात्रा वृत्तांत*
*मंदिर यात्रा वृत्तांत*
Ravi Prakash
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
परिवार का सत्यानाश
परिवार का सत्यानाश
पूर्वार्थ
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
गंगा अवतरण
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
👌ग़ज़ल👌
👌ग़ज़ल👌
*Author प्रणय प्रभात*
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
मेहनतकश अवाम
मेहनतकश अवाम
Shekhar Chandra Mitra
"साफ़गोई" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
--एक दिन की भेड़चाल--
--एक दिन की भेड़चाल--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
सात जन्मों की शपथ
सात जन्मों की शपथ
Bodhisatva kastooriya
Loading...