Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

“कभी शाम को सिसकते सुना है “

कभी शाम को सिसकते सुना है ,
उदासी में बैठी विरहनी की तरह,
जब काजल आँसुओं में बह कर ,
क्षितिज में स्याह सी फैल जाती है ,
गीत विरह के गुनगुनाती,पुकारती ,
दिन भर के सफ़र से थकी हुई ,
मोरनी सी ऋंगार कर ,थिरकती ,
बाट जोहती और खो जाती रात में.
मैने शाम को उदास बैठे देखा है ,
उसे सुना है सिसकते हुए ,
देखा है मैने उसे आँसू बहाते,
और विरह वेदना में ,पुकारते –
पुकारते ,देखा है उसे खो जाते,
नि:शब्द, गहन और निष्ठुर रात में.
…निधि …

Language: Hindi
Tag: कविता
337 Views
You may also like:
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
लेखनी
Rashmi Sanjay
अब तो हालात है इस तरह की डर जाते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बदला हुआ ज़माना है
Dr. Sunita Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुलाकात
Buddha Prakash
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
Baby cries.
Taj Mohammad
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
तस्वीरे मुहब्बत
shabina. Naaz
गीता के स्वर (1) कशमकश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
'अशांत' शेखर
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
हरतालिका तीज
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
कन्या पूजन
Ashish Kumar
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
★भोगेषु प्रियतायां सति एतस्य कारणं रस:★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"सुकून"
Lohit Tamta
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
समुद्र हैं बेहाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आस्तीक -भाग पांच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
Loading...