Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।

कभी लगता है ये ज़िन्दगी सफर में बीत जाए,
कभी एक घर की तलब सी जगती है।
कभी फिजायें चाहती हैं, स्वछंदता साँसों में घुल जाए,
कभी आस आँगन की, दिल में घर सा करती है।
कभी निर्भीकता कहती है, हर बंधन टूट जाए,
कभी ख्वाहिशें बंधनों की, ये धड़कनें हीं किया करती हैं।
कभी शब्द कहते हैं, बातें मौन में समा जाए,
कभी अनकही बातों को बाँटने की चाहतें सजती हैं।
कभी दर्द कहता है, अश्क़ पलकों में हीं छिप जाए,
कभी सिसकियाँ खुल के रोने की दुआएं करती हैं।
कभी लकीरें चाहती हैं, नसीबों से लड़ती जाएँ,
कभी एकतरफा सौदा, ये किस्मत की आवारगी से करती है।
कभी डरता है दिल कि फिर से टूट ना जाए,
कभी भ्रम बिखरे टुकड़ों के जुड़े होने का ज़हन करती है।
कभी थकान चाहती है, एक पड़ाव कहीं तो मिल जाए,
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मेरा वजूद क्या है
मेरा वजूद क्या है
भरत कुमार सोलंकी
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
Ranjeet kumar patre
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-540💐
💐प्रेम कौतुक-540💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"स्केल पट्टी"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
होली मुबारक
होली मुबारक
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
■ प्रभात वन्दन
■ प्रभात वन्दन
*Author प्रणय प्रभात*
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
About your heart
About your heart
Bidyadhar Mantry
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
Er. Sanjay Shrivastava
" दूरियां"
Pushpraj Anant
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
*किसान*
*किसान*
Dr. Priya Gupta
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
SADGURU IS TRUE GUIDE…
SADGURU IS TRUE GUIDE…
Awadhesh Kumar Singh
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
Loading...