Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2023 · 1 min read

*कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है (मुक्तक)*

कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है (मुक्तक)
➖➖➖➖➖➖➖➖
कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है
परिस्थिति पुष्प-सी लगती, कभी यह शूल होती है
हमेशा सॉंप-सीढ़ी सिर्फ लूडो में नहीं होता
बढ़ाते जो कदम पथ में, उन्हीं से भूल होती है
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम इन हसीनाओं से
तुम इन हसीनाओं से
gurudeenverma198
समझे वही हक़ीक़त
समझे वही हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
पूर्वार्थ
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
Neeraj Agarwal
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो बनना चाहते हो
जो बनना चाहते हो
dks.lhp
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
कृष्णकांत गुर्जर
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
Subhash Singhai
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
DrLakshman Jha Parimal
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
बम से दुश्मन मार गिराए( बाल कविता )
बम से दुश्मन मार गिराए( बाल कविता )
Ravi Prakash
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
"अपेक्षाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...