Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2016 · 1 min read

कब हो गई सहर और रात गुज़र गई

देखा है जब से आपको नजर ठहर गई
कब हो गई सहर और रात गुज़र गई

निभाई है बेवफ़ाई तुमने जाने जां
तुम क्या जानो जिंदगी मेरी ठहर गई

यादों के भँवर में मै उलझ कर रह गई
जब से गए हो सनम तुम मै बिखर गई

रखा जो हाथ माँ ने सर पर मिरे यार
खुशियों से आज मेरी झोली भर गई

बाहों में कँवल तेरी इस कदर खो गयी
पलकें भी ना उठी और जिंदगी गुज़र गई

गिरहबंद —
उलफ़त ए मुहब्बत में बेसुध हम हो गए
मौजे नसीम थी इधर आयी उधर गई

बबीता अग्रवाल #कँवल
नसीम – ठंडी हवा

1 Like · 373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from बबीता अग्रवाल #कँवल
View all
You may also like:
लतियाते रहिये
लतियाते रहिये
विजय कुमार नामदेव
साँझ ढले ही आ बसा, पलकों में अज्ञात।
साँझ ढले ही आ बसा, पलकों में अज्ञात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐अज्ञात के प्रति-138💐
💐अज्ञात के प्रति-138💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमारा प्रदेश
हमारा प्रदेश
*Author प्रणय प्रभात*
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
मनुख
मनुख
श्रीहर्ष आचार्य
विनय
विनय
Kanchan Khanna
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Sakshi Tripathi
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
THOUGHT
THOUGHT
Jyoti Khari
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता
कविता
Vandana Namdev
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
कवि रमेशराज
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
J
J
Jay Dewangan
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
Loading...