Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कब हो गई सहर और रात गुज़र गई

देखा है जब से आपको नजर ठहर गई
कब हो गई सहर और रात गुज़र गई

निभाई है बेवफ़ाई तुमने जाने जां
तुम क्या जानो जिंदगी मेरी ठहर गई

यादों के भँवर में मै उलझ कर रह गई
जब से गए हो सनम तुम मै बिखर गई

रखा जो हाथ माँ ने सर पर मिरे यार
खुशियों से आज मेरी झोली भर गई

बाहों में कँवल तेरी इस कदर खो गयी
पलकें भी ना उठी और जिंदगी गुज़र गई

गिरहबंद —
उलफ़त ए मुहब्बत में बेसुध हम हो गए
मौजे नसीम थी इधर आयी उधर गई

बबीता अग्रवाल #कँवल
नसीम – ठंडी हवा

1 Like · 213 Views
You may also like:
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
" शीतल कूलर
Dr Meenu Poonia
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
अरदास
Buddha Prakash
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
कारस्तानी
Alok Saxena
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
कहाँ चले गए
Taran Verma
बेपर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
शायरी
Dr. Alpa H. Amin
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
फूल की महक
DESH RAJ
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
Loading...