Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2016 · 1 min read

कब तक चुप रहेगें

उरी आर्मी बेस हमले पर

कब तक चुप रहोगे
कितना गम खाओगें
जाँबाज हमारे मरते है
दिल्ली चुप ही रहता है

कभी समुद्री राह टेरते
कभी सरे आम सिर काटते
दिल्ली कुछ नहीं करती
बस हमलों की निन्दा होती

डरपोक कायर है कितने
झेलम की राह घुस आते है
वार सोतों हुए पर करते है
चार के बदले सत्रह मारते है

हम फिर भी चुप क्यों रहेंगें
मुँह तोड़ जबाब क्यों न देगें
दिल्ली कितने घावों को सहेंगी
क्यों न पलट जबाब देंगी

~~डॉ मधु त्रिवेदी ~~

Language: Hindi
73 Likes · 344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल कि गली
दिल कि गली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल में बस जाओ
दिल में बस जाओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
परोपकारी धर्म
परोपकारी धर्म
Shekhar Chandra Mitra
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
*Author प्रणय प्रभात*
भोली बाला
भोली बाला
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
umesh mehra
मां सुमन.. प्रिय पापा.👨‍👩‍👦‍👦.
मां सुमन.. प्रिय पापा.👨‍👩‍👦‍👦.
Ms.Ankit Halke jha
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
विमला महरिया मौज
मेरे जीवन के इस पथ को,
मेरे जीवन के इस पथ को,
Anamika Singh
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
दोस्ती का एहसास
दोस्ती का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कांटों में जो फूल.....
कांटों में जो फूल.....
Vijay kumar Pandey
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
*रंग बदलते रहते मन के,कभी हास्य है-रोना है (मुक्तक)*
*रंग बदलते रहते मन के,कभी हास्य है-रोना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...