Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2023 · 1 min read

कबीर का पैगाम

मिट गई जिनकी गैरत
बिक गया जिनका ज़मीर!
वे क्या समझेंगे भला
तेरा पैग़ाम, ऐ कबीर!!
कातिलों और लूटेरों से
मानवता की उम्मीद क्यों!
कब हुए आम जनता के
पुजारी, सेठ और वज़ीर!!
#kabir #rebel #बागी #सच
#politics #poetry #क्रांतिकारी
#हल्ला_बोल #विद्रोही #आडंबर
#पाखंड #अंधविश्वास #कर्मकांड

Language: Hindi
1 Like · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाँद
चाँद
ओंकार मिश्र
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
आया सखी बसंत...!
आया सखी बसंत...!
Neelam Sharma
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
VINOD CHAUHAN
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
........
........
शेखर सिंह
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
करे मतदान
करे मतदान
Pratibha Pandey
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Sakshi Tripathi
*गणेश जी (बाल कविता)*
*गणेश जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सार्थक जीवन
सार्थक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
मेहनत और अभ्यास
मेहनत और अभ्यास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
Bidyadhar Mantry
"क्वालीफिकेशन"
*Author प्रणय प्रभात*
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
बस जाओ मेरे मन में
बस जाओ मेरे मन में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"दुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
2460.पूर्णिका
2460.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...