Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2016 · 1 min read

कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

कर्ज वो सारा चुकाकर मर गया
कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

कर के वादा आज भी आये न वो
बस महकती रातरानी रह गयी

कर ही डाली मैंने सारी कोशिशें
बस लकीरों से निभानी रह गयी

प्यार का होने लगा सौदा है अब
दिल की बस कीमत लगानी रह गयी

खो गयी इंसान की पहचान अब
टोपियाँ, माला निशानी रह गयी

पेट पर पत्थर रखा था अब तलक
रात सड़कों पर बितानी रह गयी

मिल ही जायेगा तुम्हें तुम सा कोई
बात ये तुमको बतानी रह गयी

377 Views
You may also like:
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
ऋग्वेद में सोमरस : एक अध्ययन
Ravi Prakash
माई थपकत सुतावत रहे राति भर।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
'नज़रिया'
Godambari Negi
हिंदी दिवस
Vandana Namdev
मुझे मरने की वजह दो
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
इमोजी कहीं आहत न कर दे
Dr fauzia Naseem shad
जर्मनी की बर्बादी
Shekhar Chandra Mitra
दफन
Dalveer Singh
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
कुरुक्षेत्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
■ "पराई आस" पर सदैव भारी "आत्म-विश्वास"
*Author प्रणय प्रभात*
गर्दिशों की जिन्दगी है।
Taj Mohammad
दिलों को तोड़ जाए वह कभी आवाज मत होना। जिसे...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नाम नमक निशान
Satish Srijan
कौन बुरा..? कौन अच्छा...?
'अशांत' शेखर
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
न थी ।
Rj Anand Prajapati
कब तुम?
Pradyumna
गजानन
Seema gupta ( bloger) Gupta
एक अगर तुम मुझको
gurudeenverma198
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
धूप
Rekha Drolia
Loading...