Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 14, 2016 · 1 min read

कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

कर्ज वो सारा चुकाकर मर गया
कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

कर के वादा आज भी आये न वो
बस महकती रातरानी रह गयी

कर ही डाली मैंने सारी कोशिशें
बस लकीरों से निभानी रह गयी

प्यार का होने लगा सौदा है अब
दिल की बस कीमत लगानी रह गयी

खो गयी इंसान की पहचान अब
टोपियाँ, माला निशानी रह गयी

पेट पर पत्थर रखा था अब तलक
रात सड़कों पर बितानी रह गयी

मिल ही जायेगा तुम्हें तुम सा कोई
बात ये तुमको बतानी रह गयी

329 Views
You may also like:
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
देश के नौजवानों
Anamika Singh
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
माँ की याद
Meenakshi Nagar
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता
Buddha Prakash
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
पिता
Deepali Kalra
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अनामिका के विचार
Anamika Singh
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...