Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2016 · 1 min read

कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

कर्ज वो सारा चुकाकर मर गया
कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

कर के वादा आज भी आये न वो
बस महकती रातरानी रह गयी

कर ही डाली मैंने सारी कोशिशें
बस लकीरों से निभानी रह गयी

प्यार का होने लगा सौदा है अब
दिल की बस कीमत लगानी रह गयी

खो गयी इंसान की पहचान अब
टोपियाँ, माला निशानी रह गयी

पेट पर पत्थर रखा था अब तलक
रात सड़कों पर बितानी रह गयी

मिल ही जायेगा तुम्हें तुम सा कोई
बात ये तुमको बतानी रह गयी

478 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
"आशा" के कवित्त"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
कवि रमेशराज
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
Anis Shah
करता यही हूँ कामना माँ
करता यही हूँ कामना माँ
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक प्यारी सी परी हमारी
एक प्यारी सी परी हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"वोट के मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
स्वयं को तुम सम्मान दो
स्वयं को तुम सम्मान दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ शुभ धन-तेरस।।
■ शुभ धन-तेरस।।
*Author प्रणय प्रभात*
"लक्की"
Dr Meenu Poonia
इश्क की पहली शर्त
इश्क की पहली शर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐प्रेम कौतुक-460💐
💐प्रेम कौतुक-460💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंसानियत का एहसास
इंसानियत का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...