Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Aug 2023 · 2 min read

कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)

कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
_________________________________
(1)
मिटाने ताप जग का तुम, कन्हैया आओ भादों में
अधर पर प्रेम की बंसी, बजाने लाओ भादों में
(2)
हुए तुम कृष्ण मनमोहन, चुराईं मटकियाँ माखन
हमारे घर भी मटकी फोड़, माखन खाओ भादों में
(3)
बजी जब बाँसुरी मोहन, तो सुधबुध देह खोती थी
वही मस्ती वही यमुना का, तट दिखलाओ भादों में
(4)
सुदर्शन चक्रधारी तुम, तुम्हीं गिरधर कहाते हो
बनो तुम सारथी रण में, हमें जितवाओ भादों में
(5)
सुनाकर वीर अर्जुन की, जो दुविधा तुमने सुलझाई
सुनें हम और तुम गीता, वही फिर गाओ भादों में
____________________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 999 76154 51
————————————————————-
कृष्ण हमारी मटकी फोड़ो (भक्ति गीत)
____________________________________
सिर पर बोझा बहुत हो चुका अब तो कर दो खाली
कृष्ण हमारी मटकी फोड़ो माखन-मिश्री वाली
(1)
जब तक मटकी भरी रहेगी मन उसमें भटकेगा
ध्यान तुम्हारा नहीं लगेगा , मटकी में अटकेगा
एक हुई बीमारी भारी मटकी की यह पाली
(2)
जल्दी आओ कृष्ण चुरा लो या कंकड़ से फोड़ो
थक- थक गया देह से कहते-कहते बस मत जोड़ो
मटकी में माखन सफेद कब, कलुष हृदय की काली
कृष्ण हमारी मटकी फोड़ो माखन-मिश्री वाली
————————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर ( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 9997615451
—————————————————————
बंसी का स्वर दो (भक्ति गीतिका)
××××××××××××××××××××××××××
(1)
नीरस है यह जगत कृष्ण इसको बंसी का स्वर दो
मधुर भाव रस रंग हमारे अंतर्मन में भर दो
(2)
हम आपस में रहें प्रेम से कृष्ण सुधा बरसाओ
कलुष हृदय में जमा हुआ जो सब बाहर कर दो
(3)
भोला-भाला हमें बना दो निश्छल मस्ती छाए
कपट नहीं किंचित भी आए देव देव यह वर दो
(4)
तन का क्या है रहे न रहे मिटना रही नियति है
आकर कभी न जाए ऐसा अंतर्नाद अमर दो
(5)
किसी प्रलोभन के सम्मुख हम मस्तक नहीं झुकाऍं
वैरागी हो भीतर से मन ऐसा भाव प्रखर दो
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””‘”‘”””””””
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99 97 61 5451

218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
बसंत का मौसम
बसंत का मौसम
Awadhesh Kumar Singh
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
Kshma Urmila
#फर्क_तो_है
#फर्क_तो_है
*Author प्रणय प्रभात*
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
इशारा नहीं होता
इशारा नहीं होता
Neelam Sharma
खिचड़ी
खिचड़ी
Satish Srijan
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
Buddha Prakash
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...